रामपुर में 37 लकड़ी डिपो चल रहे अवैध रूप से

Dec 28, 2018 16:05 | CrimeMishappenings
solanBhushanJew


रामपुर बुशहर, 28 दिसंबर मीनाक्षी शिमला जिला के रामपुर में डिपो होल्डर अवैध रूप से इमारती लकड़ी का निर्माण कर रहे है। इन डिपो होल्डरों के पास केवल इमारती लकड़ी कोबेचने का लाइसेंस ही है। लेकिन ये डिपो धारक लकड़ियों से घरों के दरवाजे, खिड़की की चौखटे व अन्य लकड़ी से निर्मित सामान को बना रहे है। यह धंधा काफी समय से चल रहा है। ऐसा नहीं है कि वन विभाग को इस बारे में जानकारी नहीं है। विभाग ने इन सभी 37 डिपोधारकों को नोटिस जारी कर इस कार्य को तुरंत बंद करने के आदेश जारी किए है। लेकिन वह नोटिस भी इन धारकों पर कोई असर नहीं कर रहा है। जानकारी के मुताबिक मुख्य रामपुर के अलावा दूर-दराज क्षेत्रों में इमारती लकड़ी निर्माण करने का कार्य जारी है। लेकिन किसी को इस बात की जानकारी नहीं है कि यह डिपो नियमों को ताक पर रख कर कार्य कर  रहे है। इस बात का खुलासा तक हुआ जब वन विभाग की की टीम ने दिसंबर माह के शुरू में इन सभी डिपो धारकों को नोटिस थमाए है। विभाग ने अपील की है कि इमारती लकड़ी बनाने के कार्य कको तुरंत बंद कर दें। नहीं तो विभाग उन पर मुकदमा दर्ज कर कार्रवाही करेगा। लाईसेंस को भी रद्द किया जा सकता है। ऐसे में 37 अवैध डिपो चल रहे है। जो रामपुर के विभिन्न पंचायतों के अलावा नगरपरिषद के क्षेत्र में भी चल रहे है। यह डीपो धारक केवल लकड़ियों का विक्रय कर सकते है वह अपनी दुकानों में किसी भी प्रकार की वस्तुओं का निर्माण नहीं कर सकते । 
बाक्स इस बारे में वनमंडलाधिकारी रामपुर का कहना है कि अवैध रूप से चल रहे ईमारती लकड़ी बनाने का कार्य करने वालों को नोटीस जारी कर दिए गए है। यदि इसके बावजूद भी वह अपने इस कार्य को बंद नहीं करेंगें तो उन पर कार्रवाही अमल में लाई जाएगी।