कोविड-19 महामारी के दौर में भी नाथपा झाकड़ी हाइडो पावर स्टेशन निर्बाध एवं निरन

Jun 27, 2020 15:50 |

Nishant Sharna Ramour bushahr

दिनांक: 27-06-2020
परियोजना प्रमुख श्री रवि चन्द्र नेगी ने बताया कि कोरोना जैसी विकट समस्या के दौर में 1500मे0वा0 नाथपा झाकड़ी हाइड्रो प्रोजेक्ट द्वारा निर्बाध एवं निरन्तर विद्युत-उत्पादन कर देश में चल रही विद्युत-संकट के इस दौर में महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन किया है जिसके लिए उन्होंने अध्यक्ष सह प्रबन्ध निदेशक श्री नंद लाल शर्मा जी के साथ-साथ समस्त निदेशक मंडल का आभार व्यक्त किया जिनके दिशा-निर्देशों के अनुरूप यह परियोजना प्रगति के पथ पर निरन्तर प्रयासरत है । इसके साथ ही परियोजना का हिस्सा रहे उन सभी कर्मियों के सहयोग एवं कठिन समय में भी अपनी दक्षता का प्रदर्शन करने हेतु आभार व्यक्त किया ।
श्री नेगी ने कहा कि इस स्टेशन द्वारा दिनांक 26 जून] 2020 तक 1985-433 मि0यू का विद्युत-उत्पादन कर लिया है जबकि स्टेशन की संयंत्र उपलब्धता फैक्टर 107-772% रहा । इस प्लांट द्वारा मार्च] 2020 को (वित्तीय वर्ष 2019-20 के दौरान) 7445-431 मि0यू0 के द्वितीय सर्वाधिक विद्युत-उत्पादन के नए कीर्तिमान को स्थापित किया था जो नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन के लिए गर्व की बात है । 
उन्होंने बताया कि पांच अप्रैल को प्रधानमंत्री के आग्रह पर 9 मिनट तक देश में जहां प्रकाश बंद का आह्नवान हो या उस स्थिति में पावर स्टेशन को नियंत्रण करने की चुनौती हो] इस परियोजना ने हर हाल में चुनौतियां का सामना करते हुए ऊर्जा-पूर्ति कर अपनी एक मिसाल कायम की है । इस विकट घड़ी में परियोजना निरन्तर ऊर्जा-उत्पादन कर रही है । इससे उत्तर भारत के कई राज्यों हरियाणा, हिमाचल प्रदेश] जम्मू-कश्मीर] पंजाब] राजस्थान] उत्तर प्रदेश] उत्तराखंड] दिल्ली एवं चण्डीगढ को निर्बाध विद्युत-आपूर्ति की जा रही है । 
विद्युत-उत्पादन के साथ-साथ सामाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए राज्य सरकार के आग्रह पर कोटला और ज्यूरी में इंटीच्यूशनल कोविड सेन्टर स्थापित किया गया है । परियोजना और राज्य सरकार मिलकर कार्य कर रही है । इसके साथ-साथ जहां कहीं भी सेनिटाईजर की आवश्यकता होती है उसे हम प्रदान कर रहे हैं चाहे वह गाड़ियां हो, बिल्डिंग हो या नालियां हो परियोजना कार्य करने हेतु तत्पर रहती है जो कि एक पूर्व निवारक उपाय  है।
उन्होंने बताया कि लोगों को सचेत करने के लिए 11 स्थलों पर इलेक्ट्राॅनिक सायरन तथा नाथपा बांध के डाउन स्ट्रीम पर द्विभाषी सूचनापट्टों को स्थापित किया गया है । बांध स्थल से पानी छोड़ने से पहले  पानी की गतिविधियों से संबंधित जानकारी सभी को सायरन बजा कर] स्पीकर से युक्त मोबाईल बैन पर जनता को संबोधित करके तथा मोबाईल फोन पर विस्तृत सन्देश के माध्यम से प्रदान की जाती   है  ।
परियोजना लोगों से आग्रह करती है कि नदियों में पानी का स्तर बढ़ रहा है इसलिए नदी के किनारों में न जाएं ।