मंकी पॉक्स: लक्षण और बचाव के उपाय

मंकी पॉक्स: लक्षण और बचाव के उपाय

डॉ एम डी सिंह  डॉ एम डी सिंह महाराज गंज गाजीपुर उत्तर प्रदेश

 

कोरोना के बाद  अब देश में मंकी पॉक्स की दहशत बढ़ती जा रही है ,कोरोना अभी ठीक से खतम नहीं हुआ है और मंकी पॉक्स

की दहस्त ने लोगों  को नए खौफ में डाल दिया है
बिभिन्न राज्यों ने अपने नागरिकों को इस बीमारी से बचने की सलाह दी है और लोग सक्ते में आ गए हैं क्योंकि बह इस बीमारी से बाक़िफ़ ही  नहीं हैं मंकीपाॅक्स कोई नया रोग नहीं है। यह एक स्मालपॉक्स की फैमिली के वायरस द्वारा फैलने वाला संक्रामक रोग है जिसे पहली बार प्रयोगों के लिए लाए गए एक बंदर में 1950 में पाया गया। बंदरों की अतिरिक्त इसे चूहों और गिलहरियों को भी संक्रमित करते हुए पाया गया है। इन्हीं जानवरों से यह मनुष्य तक पहुंचा। वैसे तो यह कोविड-19 जैसा बहुत तेजी से फैलने वाला संक्रामक रोग नहीं है किंतु भयभीत करने लायक तो है ही। आज अब तक यह 24 देशों तक पहुंच चुका है
लेकिन ज्यादा डराने वाली बात एक खबर है जिसमें कहा गया कि कुछ युद्धरत देश इसका प्रयोग बायोलॉजिकल हथियार  के रूप में कर सकते हैं। इसलिए सारी दुनिया और चिकित्सा पद्धतियों को सतर्क हो जाने की जरूरत है।
 
संक्रमण का तरीका : 

यह रोग चार चरणों में चेचक की तरह फैलता है   जिसमें हर चरण में अलग अलग लक्षण  दिखते हैं / संक्रमित जानवर अथवा मनुष्य के सीधे संपर्क में आने से यह वायरस मुंह, नाक, आंख ,कटी-फटी त्वचा एवं शारीरिक संसर्ग के रास्ते अन्य मनुष्य अथवा जानवर तक पहुंच जाता है। संक्रमित व्यक्ति द्वारा प्रयोग किए गए बिस्तर अथवा वस्त्रों द्वारा भी इसका संक्रमण संभव है

 
इनक्यूबेशन पीरियड : 
यह प्रथम रोग लक्षण मिलने के पहले का वह समय है जिसमें नए संक्रमित मरीज के भीतर संक्रामक वायरस अपनी कॉलोनी विकसित करता होता है। इस संक्रमण में वह समय 3 से 7 दिन का है।
 
लक्षण :
1- सर्वप्रथम सर दर्द बुखार और बदन दर्द के लक्षण प्रकट होते हैं।
2- फिर छाती और आर्मपिट में लाल रंग रैशेज दिखाई पड़ते हैं। जिनमें तेज खुजली होती है।
3- स्मालपॉक्स की तरह के छाले सर्वप्रथम चेहरे पर दिखाई पड़ते हैं फिर हाथ और पैर के तलवों में यह छाले ज्यादा निकलते हैं।।
4- एक-दो दिन बाद इन छालों का प्रकोप पूरे शरीर पर दिखाई पड़ने लगता है।
5- पानी भरे छालों में खुजली रहती है।
6- स्मालपाॅक्स की तरह मंकीपॉक्स के छालों में भी क्रमशः परिवर्तन होते हैं।
7- बाद में छालों में मवाद भर जाता है दो-तीन दिन उपरांत यह मवाद भी सूख कर चालू पर मोटी मोटी पिपड़िया(स्केल्स) पड़ जाती हैं।
8- अंत में सारे स्केल्स धीरे-धीरे छूटकर गिर जाते हैं और त्वचा पर गहरे दाग छोड़ते हैं।
9- इस रोग की संक्रामक अवस्था 14 से 16 दिन तक की है।
10- मृत्यु दर कम है किंतु है।
 
बचाव :
1- संक्रमित देशों की यात्रा करने से बचा जाए। अथवा जिस एरिया में संक्रमित मरीज मिले हों वहां न जाया जाए।
2- बंदर चूहे और गिलहरियों से दूर रह जाए।
3- संक्रमित मनुष्य के सीधे संपर्क मैं आने से बचा जाए।
4- संक्रमित व्यक्ति को चेचक के लिए बने अस्पताल अथवा घर में ही किसी अलग कमरे में आइसोलेट किया जाए।
5- संक्रमित देशों अथवा जगह से लौटे यात्रियों की हवाई अड्डों पर ही जांच करवाई जाए।
6- होटलों और ट्रेन में एपिडेमिक के समय पहले से बिछे बिछावन का प्रयोग ना करें।
7- टीकाकरण करवाया जाए।
8- अनावश्यक भयभीत होकर अपने इम्यून सिस्टम को कमजोर ना करें।
 
चिकित्सा :
1-यदि एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति की बात की जाए तो इस रोग से लड़ने के लिए उसके पास कोई विशेष दवा नहीं है। बुखार दर्द खुजली के लिए वी कुछ कंजरवेटिव दवाई दे सकते हैं।
2- स्मालपॉक्स दुनिया से जा चुका है। परंतु उससे बचाव के लिए बनाई गई एलोपैथिक वैक्सीन अब भी उपलब्ध है । वह मंकीपॉक्स पर भी 85% तक कारगर है।
 
होम्योपैथिक चिकित्सा :
मंकीपॉक्स के लिए होम्योपैथी सबसे उपयुक्त चिकित्सा पद्धति है। क्योंकि इसके पास रोग से पहले बचाव के लिए और हो जाने के बाद चिकित्सा के लिए भी कारगर लाक्षणिक दवाएं उपलब्ध है।
 
बचाव के लिए होम्योपैथिक औषधि :
मंकीपॉक्स से बचाव के लिए होम्योपैथिक औषधि
मैलेन्ड्रिनम 200 अचूक है । यह औषधि वैक्सीनेशन के दुष्प्रभाव को भी सफलतापूर्वक खत्म कर देती है। स्मॉल पॉक्स के एपिडेमिक के समय अनेक होम्योपैथिक चिकित्सकों ने टीका के रूप में इसका प्रयोग सफलतापूर्वक किया और अपना अनुभव लिखा है । स्मालपॉक्स के एक एपिडेमिक के समय इस औषधि का प्रयोग अन्यों के अतिरिक्त अपने ऊपर भी स्वयं किया और उस काल में वे सभी सुरक्षित रहे।उस समय उन्होंने मैलेन्ड्रिनम 30 c का प्रयोग अपने ऊपर सुबह शाम किया और दो बार और दोहराया। इसकी प्रामाणिकता को सिद्ध करने के लिए उन्होंने स्मालपॉक्स के मरीजों के बीच रहते हुए भी वैक्सीन नहीं लगवाया और वे सुरक्षित रहे। स्मालपॉक्स जैसे लक्षणों वाले मंकी पाक्स पर भी इस औषधि को 200 शक्ति में 10:–10 दिन पर एक-एक खुराक तीन बार देकर सबको सुरक्षित किया जा सकता है।
 
चिकित्सा के लिए होम्योपैथिक औषधियां :
रोग हो जाने के बाद भी लक्षण अनुसार अनेक कारगर होमियोपैथिक औषधियां उपलब्ध है जो मंकीपॉक्स के समय और समाप्त होने के बाद उसके अनेक दुष्प्रभावों को सफलतापूर्वक ठीक करेंगी। इनमें प्रमुख हैं :
 
मैलेन्ड्रिनम, वैरिओलिनम , रस टॉक्स; कैंथेरिस , हिपर सल्फ, सरसेनिया पी, मेजेरियम, आर्सेनिक एल्ब, थूजा,
हिप्पोजेनियम, मैन्सीनेला,इचिनेशिया इत्यादि।
 
नोट:- उपरोक्त औषधियों को होम्योपैथिक चिकित्सक की राय पर लिया जाए।
 

Related post

राकेश झुनझुनवाला का रविवार सुबह 62 वर्ष की उम्र में निधन

राकेश झुनझुनवाला का रविवार सुबह 62 वर्ष की उम्र…

भारत के स्टाक मार्केट में निवेश करने वाले राकेश झुनझुनवाला का रविवार सुबह 62 वर्ष की उम्र में निधन हो गया.…
हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला की पर्यटन नगरी डलहौजी में हाथों में राष्ट्रध्वज व होठों पर देश भक्ति के गीतों व् नारों के साथ निकाली गयी भव्य तिरंगा यात्रा

हिमाचल प्रदेश के चंबा जिला की पर्यटन नगरी डलहौजी…

https://youtu.be/stj1736sL_o डलहौज़ी ”चम्बा”  रिपोर्ट   नरिंदर सिंह  ”बोब्बी” आजादी के 75वें अमृत महोत्सव को लेकर पूरे भारत में राष्ट्र प्रेम की अलख…
HP Cabinet decisions, jobs and better health services are on the agenda

HP Cabinet decisions, jobs and better health services are…

  SHIMLA 13th August, 2022 In a cabinet meeting today Himachal Pradesh government has taken many important decisions. In the meeting…

Leave a Reply

Your email address will not be published.