मनिंदर जैसे जांबाजों के बलिदान का देश रहेगा हमेशा कर्जदार : डीसी हरप्रीत सूदन

सेना मेडल विजेता की शहादत को नम आंखों से किया नमन

अमृतसर, ( राहुल सोनी )

विश्व के सबसे ऊंचे व दुर्गम क्षेत्र हिमखंड ग्लेशियर में शहादत का जाम पीने वाले सेना की 3 पंजाब रेजीमेंट के सेना मेडल विजेता नायक मनिंदर सिंह का तीसरा श्रद्धांजलि समारोह शहीद सैनिक परिवार सुरक्षा परिषद के महासचिव कुंवर रविंदर सिंह विक्की की अध्यक्षता में राजासांसी में आयोजित किया गया। समारोह मे डीसी हरप्रीत सिंह सूदन बतौर मुख्य मेहमान शामिल हुए। इनके अलावा शहीद की पत्नी नायब तहसीलदार अकविंदर कौर, बेटा एकमजोत सिंह, ससुर जगतार सिंह, कैबिनेट मंत्री हरभजन सिंह ईटीओ की पत्नी सुरिंदर कौर, एडीसी सुरिंदर सिंह, एसडीएम हरकंवल सिंह, तहसीलदार नवकीरत सिंह, नायब तहसीलदार अर्चना शर्मा, बीडीपीओ सितारा सिंह, शहीद लेफ्टिनेंट नवदीप सिंह अशोक चक्र के पिता कैप्टन जोगिंदर सिंह, शहीद लांसनायक संदीप सिंह शौर्य चक्र की पत्नी एजुकेशन पंचायत अफसर गुरप्रीत कौर, मुंबई से प्रतिभा, 9 पंजाब रेजीमेंट के नायब सूबेदार कुलदीप सिंह आदि ने विशेष मेहमान के तौर पर शामिल होकर शहीद को श्रद्धासुमन अर्पित किए। सर्वप्रथम श्री अखंड पाठ साहिब का भोग डालते हुए रागी जत्थे द्वारा वैरागमयी कीर्तन कर शहीद को नमन किया गया। मुख्य अतिथि व अन्य मेहमानों ने शहीद के चित्र समक्ष पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि समारोह का आगाज किया गया। इसके अलावा 9 पंजाब यूनिट के जवानों ने शहीद नायक मनिंदर सिंह के चित्र पर रीथ चढ़ा कर सैल्यूट किया। समारोह को संबोधित करते हुए मुख्यातिथि डीसी हरप्रीत सिंह सूदन ने कहा कि हिम वीर नायक मनिंदर सिंह जैसे जांबाज सैनिकों के अमूल्य बलिदान का देश हमेशा कर्जदार रहेगा जिन्होंने ग्लेशियर की बर्फीली चोटियों पर अपनी ड्यूटी को कर्तव्यपरायणता से निभाते हुए अपने प्राणों की आहुति देकर देशवासियों को यह संदेश दिया कि एक सैनिक के लिए राष्ट्र सर्वोपरि होता है। उन्होंने कहा कि वह शहीद परिवारों के त्याग, हौंसले व संघर्ष के समक्ष नतमस्तक हैं जो अपनी सबसे बहुमूल्य दौलत देश पर कुर्बान करने के बाद भी समाज के लिए प्रेरणास्रोत बन गर्व से सिर उठा कर जी रहे हैं। डीसी सूदन ने कहा देश के हर नागरिक का यह फर्ज बनता है कि वो शहीदों के दिखाए मार्ग का अनुसरण करते हुए उनके सपनों को साकार कर राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान देकर उनकी सोच पर पहरा दें। यही आज के दिन पर मनिंदर जैसे शूरवीरों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी। उन्होंने कहा जिला प्रशासन सभी शहीद परिवारों की समस्याओं को प्राथमिकता के आधार पर हल करने हेतु बचनबद्ध हैं तथा वह खुद को सौभाग्यशाली समझेंगे अगर वो किसी शहीद परिवार के काम आ सकें। उन्होंने कहा वह शहीद सैनिक परिवार सुरक्षा परिषद के दिल से आभारी हैं जो जगह-जगह इस तरह के समारोह आयोजित कर समाज में देशभक्ति की अलख प्रज्जवलित कर रहे हैं।

*बलिदानी पिता से मनिंदर को मिला वतन पर कुर्बान होने का जज्बा-कुंवर विक्की*

परिषद के महासचिव कुंवर रविंदर सिंह विक्की ने कहा कि परिवारिक संस्कारों से ही पैदा होता है शहादत का जज्बा, इन पंक्तियों को नायक मनिंदर ने सही मायनों में चरितार्थ कर दिखाया, क्योंकि उनके पिता नायक सुखदेव सिंह ने भी 1992 में देश की सुरक्षा में दुश्मन से लड़ते हुए वीरगति प्राप्त की थी तथा इसी बलिदानी पिता की शुरवीरता व अदम्य साहस से प्रेरित मनिंदर में भी वतन पर कुर्बान होने का जज्बा कूट-कूट कर भरा हुआ था तथा परिवार की गौरवमयी शहादतों की परंपरा को तीन साल पहले मनिंदर ने भी अपने प्राणों की आहुति देकर कायम रखा। आज सारा देश इस बलिदानी परिवार के समक्ष नतमस्तक है। उन्होंने कहा कि आज की भावी पीढ़ी फिल्मी हीरो को अपना रोल मॉडल मानती है जो देश का सबसे बड़ा दुर्भाग्य है, उन्हें इस बात का एहसास नहीं है कि फिल्मी हीरो अगर गल्ती करता है तो उसका रीटेक होता है मगर देश के रियल हीरो हमारे वीर सैनिकों के जीवन में गल्ती की कोई गुंजाइश नहीं होती वो जो भी करते हैं सब लाइव होता है। कुंवर विक्की ने कहा कि नायक मनिंदर सिंह एक बहादुर कमांडो था जिसने 29 वर्ष की अल्पायु में राष्ट्र की सुरक्षा में अपना बलिदान देकर अपना सैन्य धर्म निभाते हुए देशवासियों को यह संदेश दिया कि जिंदगी लंबी नहीं बड़ी होनी चाहिए। इसी लिए एक सैनिक को सच्चा संत सिपाही कहा गया है जिसका एक ही धर्म होता है इंसानियत जिसकी सुरक्षा में वो अपने प्राणों की बाजी लगा असली हीरो का किरदार निभा जाता है।

पिता की शहादत को बेटे ने किया सैल्यूट, कहा मैं भी बनूंगा फौजी

समारोह में शामिल हर आंख उस समय नम हो उठी, जब शहीद पिता मनिंदर को सैल्यूट करते हुए उनके 8 साल के बेटे एकमजोत ने कहा कि मुझे अपने पापा को खोने का दुख तो बहुत है मगर उनकी शहादत पर गर्व भी है कि मुझे आज लोग एक शहीद के बेटे के नाम से जानते हैं। एकमजोत ने कहा कि मैं भी अपने पापा की तरह एक बहादुर फौजी बनकर उनके सपनों को साकार करूंगा।

*शहीद मनिंदर के नाम पर बनेगी यादगार: सुरिंदर कौर*

कैबिनेट मंत्री हरभजन सिंह ईटीओ की पत्नी सुरिंदर कौर ने कहा नायक मनिंदर सिंह जैसे बहादुर सैनिकों की बदौलत की आज देश की सीमाएं महफूज हैं। उन्होंने कहा कि शहीद मनिंदर सिंह के बलिदान को शाश्वत रखने के लिए उनकी स्मृति में एक यादगार स्मारक बनाया जायेगा ताकि हमारी युवा पीढ़ी उनके बलिदान से प्रेरणा ले सके। इस अवसर मुख्यातिथि द्वारा शहीद के परिजनों सहित पांच अन्य शहीद परिवारों को शाल तथा स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। इस मौके पर पुलवामा हमले के शहीद कांस्टेबल मनिंदर सिंह के पिता सतपाल अत्री, शहीद सिपाही मनदीप कुमार के पिता नानक चंद, सरपंच प्रितपाल सिंह, हवलदार अर्जुन सिंह, नायक संदीप सिंह, लाली प्रधान, एसडीओ सुखबीर सिंह, डीएम जसविंदर सिंह, हरप्रीत सिंह, संजीव कुमार इत्यादि उपस्थित थे।

Related post

Kohli Fined 50% of Match Fees for Fuming Over Controversial Dismissal in Narrow RCB Loss

Kohli Fined 50% of Match Fees for Fuming Over…

Kohli Fined 50% of Match Fees for Fuming Over Controversial Dismissal in Narrow RCB Loss! In a fiery turn of events,…
Junior Engineer Fined ₹20,000 for Negligence in Service, Compensation Awarded to Complainant

Junior Engineer Fined ₹20,000 for Negligence in Service, Compensation…

“Junior Engineer Fined ₹20,000 for Negligence in Service, Compensation Awarded to Complainant” Chandigarh, April 22 – The Haryana Public Service Commission…
Government will bear the entire cost of treatment of the victim’s daughter: Chief Minister

Government will bear the entire cost of treatment of…

Government will bear the entire cost of treatment of the victim’s daughter: Chief Minister -Thakur Sukhwinder Singh Sukhu met the family…

Leave a Reply

Your email address will not be published.