योग शब्द – वेदों, उपनिषदों, गीता एवं पुराणों में अति प्राचीन काल से व्यवहार में आया है : बिंदल

योग शब्द – वेदों, उपनिषदों, गीता एवं पुराणों में अति प्राचीन काल से व्यवहार में आया है : बिंदल

नहान/सोलन/शिमला,

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल द्वारा नहान विधानसभा क्षेत्र में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के कार्यक्रम में भाग लिया गया है, जिसमें उन्होंने समस्त प्रदेशवासियों को योग दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। डॉ. राजीव बिंदल ने योग के महत्व पर चर्चा की है और बताया है कि योग शब्द वेदों, उपनिषदों, गीता और पुराणों में अत्यंत प्राचीन काल से उपयोग में आया है। योग भारतीय दर्शन में एक महत्वपूर्ण शब्द है और इसे आत्म दर्शन से लेकर कर्मक्षेत्र तक कवर किया गया है। योग के विभिन्न प्रकारों की व्याख्या ऋषि-मुनियों ने की है और हजारों-लाखों पीएचडी योग पर हो सकती हैं, लेकिन अष्टांग योग (आठ अंगों वाला योग) को अपनाकर हम अपने सामान्य जीवन को भी कल्याणमय बना सकते हैं। अष्टांग योग के दो विषयों पर विशेष चर्चा की गई है, जो हैं आसन और प्राणायाम। आसन और प्राणायाम से हमारे शरीर में सही रक्त संचार होता है।

योग शब्द – वेदों, उपनिषदों, गीता एवं पुराणों में अति प्राचीन काल से व्यवहार में आया है। भारतीय दर्शन में योग एक अति महत्वपूर्ण शब्द है। आत्म दर्शन एवं समाधि से लेकर कर्मक्षेत्र तक योग का व्यापक व्यवहार हमारे शास्त्रों में हुआ है।
• महर्षि पतंजलि योग शब्द का अर्थ चित्तवृत्ति का निरोध करते हैं।
• महा ऋषि व्यास योग शब्द का अर्थ समाधि करते हैं।
• सयंम पूर्वक साधना करते हुए आत्मा का परमात्मा के साथ योग करके समाधि का आनंद लेना योग है।
ऋषि-मुनियों ने योग की अलग-अलग प्रकार से व्याख्या की है जो अनंत है। हजारों-लाखों पीएचडी योग पर हो सकती हैं परंतु हमें अष्टांग योग को धारण करने से अपना सामान्य जीवन व्यतीत करते हुए जीवन का कल्याण कर सकते हैं।
अष्टांग योग – यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान एवं समाधि। इनमें से हम दो विषयों पर ही जन सामान्य चर्चा-वार्ता करते हैं। वह है, आसन एवं प्राणायाम।
आसन एवं प्राणायाम से हमारे शरीर के हर हिस्से में सही प्रकार से रक्त का संचार होता है। शने: शने: हमारी मांसपेशियां, सनायु एवं तंतु सभी सक्रिय होकर शरीर से दोषों का निर्हरण करते हुए शरीर दोषमुक्त होने लगता है। मांसपेशियों का संकुच्चन एवं प्रसारण होने से रक्त संचार पूर्णरूपेण होता है।
मनुष्य जीवन के चार पुरुषार्थों का वर्णन है। धर्म, अर्थ, काम व मोक्ष – इन चारों पुरूषार्थों का आधार है-शरीर, यदि शरीर लगातार लम्बे समय तक स्वस्थ रहता है तो ही चारों पुरुषार्थों को साधा जा सकता है। इसलिए स्वस्थ शरीर ही आधार है।
सुश्रुता संहिता के अनुसार स्वस्थ शरीर का वर्णन है :-
समदोष: समाग्निश्च समधातुमलक्रिय: ।
प्रसन्नात्मेन्द्रियमना: स्वस्थ इत्यभिधीयते ॥

अर्थात – जिस मनुष्य के दोष सम हैं, जिस मनुष्य की अग्नियां सम हैं, जिस मनुष्य की धातुएं सम हैं, मल क्रियाएं सम हैं, व जिसकी आत्मा, इंद्रियां व मन प्रसन्न है, वही स्वस्थ है। यह सब कुछ योग (अष्टांग योग) से संभव है।

Related post

कांग्रेस षड्यंत्रकारी पार्टी और सरकार : बिंदल

कांग्रेस षड्यंत्रकारी पार्टी और सरकार : बिंदल

कांग्रेस षड्यंत्रकारी पार्टी और सरकार : बिंदल सिरमौर, भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ने प्रैस वार्ता को संबोधित करते हुए…
मोदी की गारंटी पर देश को भरोसा, अबकी बार- 400 पार: अनुराग ठाकुर

मोदी की गारंटी पर देश को भरोसा, अबकी बार-…

मोदी की गारंटी पर देश को भरोसा, अबकी बार- 400 पार: अनुराग ठाकुर किसानों के लिए जो आज तक कोई सरकार…
केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह द्वारा मध्य प्रदेश के खजुराहो में ‘बूथ समिति सम्मेलन’ में दिए गए भाषण के मुख्य बिंदु

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह द्वारा…

केंद्रीय गृह एवं सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह द्वारा मध्य प्रदेश के खजुराहो में ‘बूथ समिति सम्मेलन’ में दिए गए भाषण…

Leave a Reply

Your email address will not be published.