विज्ञान और प्रौद्योगिकी लचीलापन बढ़ाने और महामारी, स्थिरता और जलवायु परिवर्तन जैसी हमारे समय की चुनौतियों से निपटने के लिए आवश्यक हैं।

केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने हैदराबाद में विज्ञान प्रशासकों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया और आईजीओटी मॉड्यूल भी लॉन्च किया

 

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारतीय अनुसंधान एवं विकास की कहानी में निजी क्षेत्र का भी महत्वपूर्ण योगदान है और विज्ञान प्रशासक इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं

 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने व्यापक स्तर पर सार्वजनिक भलाई के लिए सभी क्षेत्रों में सार्वजनिक और निजी भागीदारी के विकास के लिए एक अनुकूल माहौल बनाया है

 

डॉ. सिंह ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी लचीलेपन को बढ़ाने और महामारी, स्थिरता एवं जलवायु परिवर्तन जैसी हमारे समय की चुनौतियों से निपटने के लिए आवश्यक हैं

 

केंद्रीय विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और पीएमओ, कार्मिक, लोक शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्यमंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने भारतीय प्रशासनिक स्टाफ कॉलेज (एएससीआई) में विज्ञान प्रशासकों के लिए एक प्रशिक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ किया।

 

इस अवसर पर उन्होंने आईजीओटी प्लेटफॉर्म के माध्यम से एक ‘गवर्नेंस कोर्स मॉड्यूल’ भी लॉन्च किया।

 

इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी लचीलापन बढ़ाने और महामारी, स्थिरता और जलवायु परिवर्तन जैसी हमारे समय की चुनौतियों से निपटने के लिए आवश्यक हैं। इसलिए प्रौद्योगिकी शासन प्रणाली अपने आप में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

उन्होंने कहा कि विज्ञान और प्रौद्योगिकी का शासन एक प्रसिद्ध पहेली है तथाकथित कॉलिंगरिज दुविधा, जो यह मानती है कि नवाचार प्रक्रिया की शुरुआत में जब हस्तक्षेप और पाठ्यक्रम सुधार अभी भी आसान और सस्ते सिद्ध हो सकते हैं तब प्रौद्योगिकी के पूर्ण परिणाम और परिवर्तन की आवश्यकता पूरी तरह से स्पष्ट नहीं हो सकती है।

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि भारत एक समाजवादी राष्ट्र है और भारत में विज्ञान और प्रौद्योगिकी इसी तरह से नागरिकों के जीवन को आसान बनाने की दिशा में ध्यान दे रही है। विज्ञान से नागरिकों को लाभान्वित होना है, इसलिए यह महत्वपूर्ण हो जाता है हम सामाजिक रूप से लाभकारी परिणामों के साथ वैज्ञानिक विकास का समर्थन करने के लिए अपनी ओर से सभी प्रयास करें।

 

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि वैज्ञानिक अनुसंधान और विकास केवल एक सरकारी उपक्रम नहीं है, बल्कि भारत में निजी क्षेत्र भी भारतीय अनुसंधान और विकास की कहानी में एक महत्वपूर्ण पक्ष है, हालांकि अभी भी बहुत कुछ हासिल करना बाकी है जो सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के अनुसंधान और विकास द्वारा पारस्परिक लाभ के लिए प्राप्त किया जा सकता है। विज्ञान प्रशासक इस दिशा में अहम भूमिका निभाते हैं।

 

डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरन्द्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार प्रारंभिक अनुसंधान चरण से लेकर व्यावसायिक नवाचारों तक के सभी चरणों में निजी विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास में सहायता प्रदान करती हैं। उन्होंने कहा यह सहायता अनुसंधान अनुदान और नवाचार अनुदान या इन्क्यूबेटर और सॉफ्टवेयर पार्क जैसे बुनियादी ढांचे के समर्थन के माध्यम से गैर-वित्तीय हो सकता है और विज्ञान प्रशासक ऐसे महत्वपूर्ण कार्यों को सफलतापूर्वक संचालित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Related post

Chief Minister Directs Improvement of Basic Amenities in Industrial Areas for Enhanced Business Environment

Chief Minister Directs Improvement of Basic Amenities in Industrial…

Chief Minister Directs Improvement of Basic Amenities in Industrial Areas for Enhanced Business Environment   Chandigarh, June 16: Haryana Chief Minister…
हिमाचल में हमले के शिकार हुए एनआरआई परिवार से अमृतसर के अस्पताल में मिलने पहुंचे – कुलदीप धालीवाल

हिमाचल में हमले के शिकार हुए एनआरआई परिवार से…

हिमाचल में हमले के शिकार हुए एनआरआई परिवार से अमृतसर के अस्पताल में मिलने पहुंचे – कुलदीप धालीवाल हिमाचल में पंजाबी…
Punjab Police’s Three-Pronged Strategy Yields Massive Drug Seizures and Arrests in Statewide Operation

Punjab Police’s Three-Pronged Strategy Yields Massive Drug Seizures and…

Punjab Police’s Three-Pronged Strategy Yields Massive Drug Seizures and Arrests in Statewide Operation   Punjab Police, under the direction of Chief…

Leave a Reply

Your email address will not be published.