हिमाचल प्रदेश में भूमि प्रबंधन को सुव्यवस्थित करने के लिए अद्यतन भूमि संहिता जारी

हिमाचल प्रदेश में भूमि प्रबंधन को सुव्यवस्थित करने के लिए अद्यतन भूमि संहिता जारी

हिमाचल प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू द्वारा जारी किए गए एक नए और व्यापक भूमि संहिता के साथ भूमि से संबंधित मामलों को सरल और तेज करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाया है। यह संहिता राजस्व विभाग और अन्य संबंधित विभागों से संबंधित 64 अधिनियमों, 59 नियमों और 340 अधिसूचनाओं और दिशानिर्देशों सहित बड़ी मात्रा में जानकारी संकलित करती है।

पहले, 1992 में प्रकाशित एकमात्र उपलब्ध भूमि संहिता वर्षों से भूमि से संबंधित कानूनों और विनियमों में कई संशोधनों और परिवर्द्धनों के कारण पुरानी हो गई थी। यह नया संस्करण सभी प्रासंगिक नीतियों और प्रक्रियाओं पर अद्यतन जानकारी प्रदान करके इस अंतर को संबोधित करता है।

इस विकास का प्रभाव बहुआयामी है:

  • बढ़ी हुई दक्षता: भूमि संहिता को उपायुक्त, एसडीएम और तहसील कार्यालयों में आसानी से उपलब्ध कराकर, अधिकारियों के पास महत्वपूर्ण जानकारी तक आसानी से पहुंच होगी, जिससे वे राजस्व से संबंधित मामलों को अधिक कुशलता से हल कर सकेंगे। यह बदले में, जनता के लिए भूमि विवादों और शिकायतों के तेजी से समाधान का अनुवाद करता है।
  • पारदर्शिता और पहुंच: भूमि संहिता की व्यापक प्रकृति भूमि प्रशासन में अधिक पारदर्शिता को बढ़ावा देती है। भूमि से संबंधित मामलों की जानकारी चाहने वाले व्यक्ति अब आसानी से प्रासंगिक कानूनों और दिशानिर्देशों तक पहुंच सकते हैं, जिससे अधिक जागरूक और सशक्त नागरिकता को बढ़ावा मिलता है।
  • सार्वजनिक सेवा के प्रति प्रतिबद्धता: भूमि संहिता का जारी होना सरकार द्वारा अपने पहले बजट में किए गए वादे को पूरा करता है, जो सार्वजनिक सेवा वितरण में सुधार लाने उनकी प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है। यह पहल भूमि मामलों के त्वरित समाधान के लिए राजस्व लोक अदालतों को आयोजित करने के उनके निरंतर प्रयासों के साथ संरेखित है, जो जनता की चिंताओं को शीघ्रता से दूर करने के लिए उनके समर्पण को और उजागर करता है।

कुल मिलाकर, अद्यतन भूमि संहिता की शुरूआत हिमाचल प्रदेश में भूमि प्रबंधन को सुव्यवस्थित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। सटीक और अद्यतन जानकारी तक आसान पहुंच सुनिश्चित करके, इस पहल में राज्य में भूमि से संबंधित मामलों के संबंध में दक्षता, पारदर्शिता और जन संतुष्टि को बढ़ाने की क्षमता है।

Related post

Hon’ble Union Minister Manohar Lal’s Inaugural Visit to Tehri Power Complex: Advancing Hydro Power in India

Hon’ble Union Minister Manohar Lal’s Inaugural Visit to Tehri…

Hon’ble Union Minister Manohar Lal’s Inaugural Visit to Tehri Power Complex: Advancing Hydro Power in India Rishikesh, 15-07-2024: Hon’ble Union Minister…
Mohan Lal Baroli Takes Charge as Haryana BJP State President: A New Chapter for the Party

Mohan Lal Baroli Takes Charge as Haryana BJP State…

Mohan Lal Baroli Takes Charge as Haryana BJP State President: A New Chapter for the Party Mohan Lal Baroli, the newly…
हिमाचल प्रदेश विधानसभा में पति-पत्नी की ऐतिहासिक मौजूदगी: सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू और कमलेश ठाकुर

हिमाचल प्रदेश विधानसभा में पति-पत्नी की ऐतिहासिक मौजूदगी: सीएम…

 हिमाचल प्रदेश विधानसभा में पति-पत्नी की ऐतिहासिक मौजूदगी: सीएम सुखविंदर सिंह सुक्खू और कमलेश ठाकुर हिमाचल प्रदेश के राजनीतिक इतिहास में…

Leave a Reply

Your email address will not be published.