गर्मियों में होंठों की  मुस्कराहट  बरकरार रखिए

गर्मियों में होंठों की  मुस्कराहट  बरकरार रखिए ------शहनाज़ हुसैन 

 

गर्मियों  अपने यौवन पर हैं ,गर्मियां शुरू होते ही होंठों के फटने की समस्या शुरू हो जाती है लेकिन यह कोई गम्भीर समस्या नहीं है 

इस मौसम में तापमान के  बढ़ जाने से वातबरण में नमी कहीं खो सी जाती है जिससे बाताबरण ज्यादा शुष्क हो जाता है और होंठ फटने शुरू हो जाते हैं ,यह समस्या महिला और पुरुष दोनों को झेलनी पड़ती है 

गर्मियों के मौसम में हम जहाँ ज्यादातर अपने चेहरे को ढक कर रखते  हैं बहीं दूसरी और हमारे होंठ सूरज की गर्मी के सीधे सम्पर्क में आते हैं जिससे होंठों में रूखेपन की समस्या आ जाती है /,लेकिन यह जरूरी नहीं की काम के सिलसिले में घर से बाहर जाने बाली कामकाजी महिलाओ के होंठ ज्यादा फटेंगे बल्कि घर में रहने बाली महिलाओं को अगर गर्म और शुष्क हवा लगेगी तो उनके होंठ भी बैसे ही फटेंगे 

गर्मियों के दिनों में शरीर में पानी की कमी, मादक द्रव्यों और धूम्रपान की लत की बजह से पूरा शरीर शुष्क होने लगता है जिसका सीधा असर होंठों पर भी  पड़ता है / हमारी त्वचा सीवम नामक ग्रंथी की बजह से मुलायम और नम रहती है लेकिन होंठों की त्वचा में यह  तैलीय  ग्रंथी नहीं पायी जाती है जिससे होंठों के फटने के चांस ज्यादा बढ जाते हैं / गर्मियों में हम अक्सर होंठों को बार  बार जीभ फेर कर या चबा कर नम करने की कोशिश करते हैं  जिससे जीभ  की लार होंठों  की नमी को सूखा देती है जिससे होंठ ज्यादा सुख जाते हैं 

शरीर में नमी की कमी होंठों के फटने का मुख्य कारण मानी जाती है  तो ऐसे में इस कमी को पूरा करने के लिए दिन में 2 -3  लीटर पानी का नियमित सेवन करें तथा अपने आहार में लस्सी ,दही , फ्रूट जूस , सूप आदि पदार्थों को शामिल करें जिससे शरीर में नमी पर्याप्त मात्रा में बनी रहे इसके  लिए  आप मौसमी फलों जैसे तरबूज , खरबूजे ,हरे पत्ते बाली सब्ज़ियों  के  सलाद के सेवन को अपनी दिनचर्या में जरूर शामिल करें।  सलाद को स्वादिष्ट बनाने के लिए उसमें आप अंकुरित अनाज , अलसी ,तिल ,पपीते ,सूरजमुखी आदि के आसानी से मिलने बाले  बीज शामिल कर सकते हैं जिससे आपको मिनरल और विटामिन पर्याप्त मात्रा में मिल जायेंगे बीजों और सूखे मेवे में फैटी एसिड्स होते हैं जोकि त्वचा में नमी को बरकरार रख कर त्वचा को मुलायम और कोमल बनाते हैं /इस मौसम में शरीर में नमी की कमी पैदा करने बाले मसालेदार  आहार और जंक फ़ूड से बचना चाहिए /गर्मियों में होंठों के फटने के लिए हार्मोन्स का असंतुलित होना तथा कई बार घटिया सौन्दर्य प्रसाधनों का उपयोग भी जिम्मेदार होता है .

शरीर में हफ्ते में  एक बार  नारियल ,बादाम ,या तिल के तेल से से मालिश से त्वचा में नमी और ताजगी का अहसास होता है और त्वचा की मृत कोषिकाओं  को हटाने में मदद मिलती है जिससे त्वचा में नयापन और आकर्षण उभरता है.

नारियल तेल को पोषक तथा नमी बनाए रखने के गुणों से भरपूर माना जाता है। यह त्वचा को मुलायम तथा कोमल बनाता है। इसे होठों पर लगाने से सूर्य की अल्ट्रा वायलेट किरणों के नुकसान को रोका जा सकता है तथा यह त्वचा की क्रीम से बेहतर सुरक्षा कवच प्रदान करता है।

अपनी ऊँगली पर गाय  का घी लगाकर होंठों पर आहिस्ता आहिस्ता मसाज करें  जिससे होंठों पर रक्त संचार बढ़ेगा और फटे होंठों की समस्या में निजात मिलेगी .

रात को सोती बार होंठों पर नारियल तेल या मलाई से मालिश करके इसे रात भर होंठों पर रहने देँ  जिससे होंठों की नमी बरकरार  रहेगी  तथा आपके होंठ मुलायम , नर्म  और आकर्षक बने रहेंगे.

निम्बू ,,शहद और चीनी का मिश्रण बना कर इसे फ्रिज में रख लें  तथा दिन में तीन -चार बार अपनी सुविधा अनुसार होठों पर लगा लें , टमाटर के रश में मलाई या देशी घी मिलाकर होंठों पर लगाने से होंठ मुलायम हो जाते हैं ,

एक चम्मच निम्बू का रश , एक चम्मच शहद और अरंडी का तेल मिला कर इसका मिश्रण बना लें तथा इस मिश्रण को मास्क की तरह होंठो पर लगा कर कुछ समय बाद होंठों को साफ कर लीजिये .

एक कप  गर्म पानी में ग्रीन टी बैग डुबोने के बाद इस बैग को अपने होंठों पर लगा लीजिये ,ग्रीन टी में प्राकृतिक उपचार के गुण विद्यमान होते हैं जोकि त्वचा के लिए काफी  फायदेमन्द साबित होते हैं 

थोड़े से दूध में कुछ गुलाब की पंखुड़ियाँ डाल कर  तीन घण्टे के लिए छोड़ दो ,इसके बाद इस मिश्रण का पेस्ट बना कर इसे आधा घण्टा तक होंठों पर लगा कर ताजे साफ़ पानी से धो डालिये इसे आप दिन में एक बार उपयोग कर सकती हैं .

सुबह  नहाने के बाद और रात को सोने से पहले नाभि पर सरसों का तेल, गाय का घी  या मक्खन लगाने से फटे होंठों की समस्या दूर होती है ,रात को होंठों की  गुलाब जल से मालिश करने से होंठों का कालापन दूर होता है   

कच्चे खीरे  का रश दिन में तीन या चार बार लगाने से होठों की नमी बापिस आ जाती है तथा होठों का फटना बंद हो जाता है 

अपने होठों पर साबुन या पाउडर के प्रयोग से परहेज कीजिए तथा होठों पर लिप  बाम तथा अच्छी क़्वालिटी  की  चिकनी लिपस्टिक का उपयोग कीजिए।   

चेहरे को धोने के बाद होठों को मुलायम तौलिये से हल्के से पौंछना चाहिए ताकि मृत कोशिकाओं को हटाया जा सके।

रात्रि में आर्गन 

 तेल होठों की त्वचा को पौष्टिकता प्रदान करने में अहम भूमिका अदा करते है।    

आर्गनआयल को मुख्यतः खाद्य तेल तथा त्वचा एवं खोपड़ी की समस्या से जूझने के लिए उपयोग किया जाता रहा है। आर्गन आयल अनसैचूरेटड फैटी एसिड से भरपूर होता है तथा इससे माइस्चराइड क्रीम, लोशन, फेश पैक तथा हेयर आॅयल जैसे सौन्दर्य प्रसाधनों में प्रयोग किया जाता है। यह त्वचा की लचकीलेपन जैसे  गुणों को बनाए रखकर त्वचा में नवयौवनता का संचार करके बुढ़ापे के लक्ष्णों को रोकता है। इससे त्वचा में शीघ्रता से समा जाने के गुणों से यह होठों के लिए अति उत्तम माना जाता है। आर्गन आयल की बूंदों को आप सीधे होठों पर मालिश कर सकते है।  

शहद तथा ग्लिसरीन के मिश्रण को होंठो पर दस मिनट तक लगाने को बाद साफ ताजे पानी से धोने से काफी लाभ मिलता है तथा इसे रात  को होंठों पर लगा कर इसे सुबह तक लगे रहने से अच्छे परिणाम मिलते हैं /शहद तथा चीनी का मिश्रण  होठों पर लगाने के बाद इसे आधा घंटा तक लगा रहने दें तथा इसके बाद  होंठों की मृत कोशिकाएं को हटाने के लिए ऊँगली से आहिस्ता आहिस्ता रगडिये तथा बाद में होठों को हलके गुनगुने पानी से धो डालिये.

नारियल तेल को त्वचा मुख्यतः चेहरे के मेकअप को हटाने में प्रयोग किया जा सकता है। नारियल तेल को सौंदर्य प्रसाधन तथा खाद्य तेल दोनों प्रकार से पूरी तरह सुरक्षित रूप से प्रयोग किया जा सकता है, क्योंकि अन्य सौंदर्य प्रसाधनों के मुकाबले इसमें कोई भी सिंथेटिक संघटक विद्यमान नहीं होते तथा अन्य तेलों की उपेक्षा नारियल तेल से कभी दुर्गन्ध भी नहीं आती, नारियल तेल तथा आॅर्गन तेल आधारित होंठ बाम तथा होंठ क्रीम सर्दियों में होठों के सौंदर्य में प्रयोग की जा सकती है। अगर आपके होंठ फटे हैं  तो होंठों पर लिपस्टिक लगाने से पहले मॉइस्चरीज़र जरूर लगायें .

छाछ से निकले  ताजे सफ़ेद मक्खन में केसर मिलाकर बने मिश्रण को होंठों पर लगाने से होंठ गुलाबी और मुलायम हो जाते हैं.

देशी या गाय के घी में चुटकी भर  नमक मिलाकर दिन में दो तीन बार नाभि पर लगाने से होंठ फटना बन्द हो जाते हैं 

सरसों के तेल में   में हल्दी पाउडर मिला कर सुबह शाम होंठों और नाभि में लगाने से होंठ  मुलायम और नर्म हो जाते हैं 

सौंदर्य विशेषज्ञों का मानना है कि  सरसों ,नारियल तेल, जैतून  तेल को होंठों पर लगाने तथा  प्राकृतिक  तेलों पर आधारित होठों के वाम, तथा लिपिस्टिक के प्रयोग से होठों को फटने से बचाया जा सकता है