हिमाचल का सुजानपुर टीरा सैनिक स्कूल, जहां से औसतन 30.5 फीसदी छात्र सेना में अफसर चुने गए

Breaking News

हिमाचल का सुजानपुर टीरा सैनिक स्कूल, जहां से औसतन 30.5 फीसदी छात्र सेना में अफसर चुने गए

हिन्दुस्तान में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, रक्षा मंत्रालय ने एनडीए, नौसेना अकादमी या अन्य दूसरी सैन्य अकादमियों में पढ़कर अफसर बने सैनिक स्कूलों के छात्रों का ब्यौरा इकट्ठा कर दस साल का औसत निकाला है.हिमाचल प्रदेश स्थित सुजानपुर टीरा सैनिक स्कूल अबल रहा, जहां से औसतन 30.5 फीसदी छात्र सेना में अफसर चुने गए हैं.

सैनिक स्कूल घोड़ाखाल सबसे टॉप पर रहा है. वहीं, दूसरे स्थान पर हिमाचल प्रदेश स्थित सुजानपुर टीरा सैनिक स्कूल रहा, जहां से औसतन 30.5 फीसदी छात्र सेना में अफसर चुने गए हैं.

इस समय 24 सैनिक स्कूल चल रहे हैं. वहीं इन तमाम सैनिक स्कूलों में उत्तराखंड के घोड़ाखाल स्थित सैनिक स्कूल (Army School) कुछ खास ही मुकाम रखता है. रक्षा मंत्रालय ने अपने विश्लेषण में पाया कि पिछले दस सालों में यहां से औसतन 33.4 प्रतीशत छात्र सेना में अफसर बने हैं, यानी इस स्कूल का हर तीन में एक छात्र सेना के तीनों अंगों में बतौर अफसर देश की सेवा कर रहा है. मंत्रालय के रिकॉर्ड के मुताबिक, यह संख्या देश के किसी भी अन्य सैनिक स्कूल के मुकाबले सबसे ज्यादा है.

कुछ सैनिक स्कूलों का प्रदर्शन इस मामले में बेहद खराब रहा है. इनमें खराब रिकॉर्ड नगालैंड के पुंग्लवा सैनिक स्कूल का दिखा, जहां से महज एक प्रतिशत से भी कम छात्र सैन्य अफसर बने. वहीं भुवनेश्वर सैनिक स्कूल से 3.9, जम्मू-कश्मीर के नगरौटा से 4.7 फीसदी, कोडागु (कर्नाटक) सैनिक स्कूल से 5.3 फीसदी तथा गौलपारा (असम) से सिर्फ 5.9 छात्र सैन्य अफसर बने हैं.

 

 

 

 

 

news is to share the iinformation relatyed to sainik schools ( Courtsey Hindustan media)