जब जनता ही करेगी विकास कार्यों की फॉर्मेलिटी पूरी तो फिर बीजेपी को जनादेश किस काम के लिए : राजेंद्र राणा

जब जनता ही करेगी विकास कार्यों की फॉर्मेलिटी पूरी तो फिर बीजेपी को जनादेश किस काम के लिए : राजेंद्र राणा

फिर धौंस-दबाव व गुंडागर्दी की सत्ता नहीं चाहती है जिला की जनता

पूर्व में भी बदतमीज व बेहुदा नेताओं के संवादों के कारण सुजानपुर में औंधे मुंह गिर चुकी है बीजेपी

 

सुजानपुर 3 अक्तूबर
स्टेट व सेंटर में सरकार आपकी पार्टी की हो, जनादेश आपको दिया गया हो, सिस्टम आपके नियंत्रण में हो लेकिन जमीन व अन्य दस्तावेजों की औपचारिकताएं जनता पूरी करे। यह सियासी स्थिति सच में ही जनता को ठगने वाली है और जनादेश लेकर मंच से जनादेश देने वाली जनता को आंखें दिखाने वाली है। यह बात बीजेपी को रडार पर लेते हुए राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष व सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा ने सुजानपुर के दुर्गम क्षेत्र पौंहज में आयोजित महिला मंडल सम्मान समारोह में बोलते हुए कही। उन्होंने केंद्रीय नेता का नाम लिए बिना कहा कि राज्य में सरकार बीजेपी है और केंद्र में सरकार बीजेपी की है, तो क्या विकास की घोषणा संबंधी औपचारिकताओं को पूरा करना सुजानपुर की जनता की जिम्मेवारी है। उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि कोई एक काम तो बीजेपी विकास के नाम पर सुजानपुर में कर ले। क्योंकि स्टेट और सेंटर में जनादेश बीजेपी ने ऐसी ही घोषणाओं के दम पर लिया है। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि छोटा हो या बड़ा, राज्य स्तर का हो या केंद्र स्तर का। वास्तव में जन प्रतिनिधि जन सेवक होता है और जनसेवा जनता को आंखें दिखाने से नहीं उनके काम की जरूरत को समझ कर विकास करवाने से होती है। विकास का फायदा किसको होगा, विकास अपना पराया देख कर नहीं बल्कि समाज हित को देखकर किया व करवाया जाता है। राणा बोले कि विकास के लाभ को चुन-चुन कर नहीं दिया जा सकता है। कभी-कभी न चाहते हुए विकास का लाभ अपने विरोध में खड़े हुए व्यक्ति को भी हो जाता है। यही लोकतंत्र है और यही सियासत का धर्म है और इन सब बातों से उठकर जो विकास करवाए उसको असली जन प्रतिनिधि व असली जन सेवक कहते हैं। राणा ने सवाल खड़ा किया है कि अगर विकास कार्यों की औपचारिकता जनता ने पूरी करनी है तो फिर जनादेश की जिम्मेदारी किसकी और कैसे पूरी होगी? राणा ने कहा कि मैं कुछ भी बन जाऊं, छोटा या बड़ा नेता कहलाऊं इससे कोई अंतर नहीं आता है। लेकिन अगर मैं वह बनुं जिससे आपकी समस्या और शिकायतों का निपटारा कर पाऊं तो ही मेरा जीवन और मेरे जीवन की राजनीति सार्थक होती है। उन्होंने कहा कि जो आदमी अपने लोगों को भूल जाता है व अपनी जनता के वजूद को भूल जाता है वह नेता हो या अभिनेता एक दिन औंधे मुंह जरूर गिरता है। उन्होंने कहा कि मैं विधायक सुजानपुर की जनता के कारण हूं न कि सुजानपुर की जनता मेरे कारण है। राणा ने ऐलान किया कि सुजानपुर को सत्ता में रहकर या सत्ता से बाहर रहकर बीजेपी का कोई नेता जितना मर्जी प्रताडि़त कर ले लेकिन मैं आपको वायदा देता हूं कि ऐसा समय लंबे अरसे तक चलने वाला नहीं है। राणा ने कहा कि मैं सुजानपुर को वचन देता हूं कि आने वाले कांग्रेस कार्यकाल में सुजानपुर का नाम विकास को लेकर सुनहरे अक्षरों में लिखा जाएगा। उन्होंने बिना कोई नाम लिए कहा कि यह जो बीजेपी के मंचों से दागी नेताओं द्वारा बेहुदा व बदतमीज टिप्पणियों का सिलसिला फिर जारी हुआ है। इसका जवाब सुजानपुर की जनता पहले भी दे चुकी है और आने वाले वक्त में एक बार फिर देगी। इस बात का बीजेपी यकीन रखे। उन्होंने कहा कि सुजानपुर के किसी भी नागरिक के प्रति सुजानपुर की जनता अभद्र व अमर्यादित टिप्पणियों को सहन नहीं करेगी। इसका करारा जवाब मिलेगा और एक बार फिर मिलेगा। क्योंकि शालीन, सभ्य सुजानपुर किसी भी सूरत में धौंस-दबाव व गुंडागर्दी की राजनीति को स्थापित नहीं होने देगा। ऐसे नापाक मंसूबों वाले बीजेपी के कई नेता पहले भी औंधे मुंह गिरे हैं और इस बार भी औंधे मुंह गिरेंगे। इस अवसर पर राणा ने महिला सम्मान समारोह में उमड़ी महिलाओं की भीड़ के बीच सात महिला मंडलों को 12-12 हजार रुपए व टेंट देकर सम्मानित किया व सहयोग और सबल करने के अपने सेवा साधना के मिशन को लगातार जारी रखने का वायदा किया। इस दौरान पूर्व उपप्रधान विपन सिपहिया, पूर्व प्रधान वीना देवी, वार्ड मेंबर सागर रांगड़ा, पूर्व बीडीसी धर्म चंद, ऊहल के उपप्रधान विनोद कुमार, बूथ अध्यक्ष संतोष कुमार, बूथ अध्यक्ष कर्म चंद, सर्व कल्याणकारी संस्था के जिला अध्यक्ष लेखराज ठाकुर, महासचिव डॉ. अशोक राणा, सूबेदार रंजीत सिंह, ज़िला महासचिव जोगिंदर ठाकुर, सेक्टर प्रभारी रिटायर्ड प्रिंसिपल सुरेश कुमार, कैप्टन जोगिंदर सिंह व सैकड़ों लोग मौजूद रहे।