परिपक्व होते विक्रमादित्य और कॉंग्रेस पार्टी

परिपक्व होते विक्रमादित्य और कॉंग्रेस पार्टी

अपनी बात बड़ी सहेज तरीके से कैसे रखते हैं यह बात हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सवर्गीय वीरभद्र सिंह से बेहतर कोई नहीं जानता था और यही बात उनके बेटे और एमएलए विक्रमादित्य सिंह भी कर रहें हैं. जिस तरह से उन्होंने प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे के दौरान रास्ता रोकने की घटना और सिक्युरिटी लेपस की बात रखी और पंजाब सरकार को इस घटना के जिम्मेदार लोगों पर कारवाई करने के लिए कहा, इस बात का संकेत है कि हिमाचल प्रदेश में एक नौजवान कॉंग्रेस चेहरा प्रदेश में ही नहीं दूसरे जगहों पर भी अपने विचार रख सकता है और अपनी बात सही तरीके से कर सकता है.

विक्रमादित्य की प्रधानमंत्री की सुरक्षा की इस बात पर प्रदेश कॉंग्रेस बटी हुई नजर आ रही है, कॉंग्रेस के कुछ नेता इसको कॉंग्रेस बनाम बीजेपी देख रहे हैं तो कुछ नेता कुछ भी कहने से बच रहे हैं. कुछ एक नेता ऊपर के आकाओं को खुश करने के लिए अपना विरोध भी दिखा रहे हैं. 

 

हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार बड़ी,सक्रिय मरीजों की संख्या 1655 हुई,रात 10 बजे   से   सुबह 5 बजे तक रात्रि कर्फयू

https://himsatta.com/news/himsatta-news-07-january-2022-guid-991360

 

 

यहां पर यह बात जानने बाली है कि विक्रमादित्य ने बड़ी स्पष्टता से अपनी बात में प्रधान मंत्री की सिक्युरिटी का मुद्दा उठाया और नैशनल लेवल और प्रधानमंत्री के औहदेय को आगे रख कर अपनी बात कही जो यह बताता है कि बह एक परिपक्व नेता की श्रेणी में आ चुकें हैँ. 

 

कॉंग्रेस प्रधान सोनिया गांधी ने भी प्रधानमंत्री की सिक्युरिटी के विषय में चिंता ब्यक्त की है और इस के साथ ही उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री चनी से भी बात की है. पंजाब सरकार ने अब इस बात पर एक हाई लेवल कमिटी भी बनाई है जो जल्दी ही इस पर अपनी रिपोर्ट सरकार को देगी.

 

कॉंग्रेस में एक नेता की कमी स्वर्गीय वीरभदृ के जाने से दिखाई दे रही थी जो अब पूरी होती नजर आ रही है. अगर विक्रमादित्य सिंह इसी तरह से आने बाले समय में भी अपनी बात रखते हैं तो यह बात तय है कि प्रदेश और कॉंग्रेस को एक बड़ा नेता मिलेगा .