श्री हरिमंदिर साहिब में श्रद्धा से मनाया गया श्री गुरु ग्रंथ साहब जी का प्रथम प्रकाश उत्सव        

श्री हरिमंदिर साहिब में श्रद्धा से मनाया गया श्री गुरु ग्रंथ साहब जी का प्रथम प्रकाश उत्सव        

अमृतसर , (राहुल सोनी ) श्री गुरु ग्रंथ साहब जी का प्रथम  प्रकाशोत्सव पर्व बड़ी श्रद्धा व हर्षोल्लास से मनाया गया । गुरुद्वारा श्री रामसर साहब से श्री अखंड पाठ के भोग उपरांत श्री हरिमंदिर साहब तक सिख परंपरा अनुसार नगर कीर्तन सजाया गया। गुरुद्वारा श्री रामसर वह इतिहासिक स्थल है जहां सिख धर्म के पांचवें गुरु श्री गुरु अर्जन देव जी ने 1604 मे श्री गुरु ग्रंथ साहब जी की संपादना की थी। श्री गुरु ग्रंथ साहब जी की छत्रछाया में पांच प्यारों के नेतृत्व में पहले प्रकाश पर्व पर नगर कीर्तन से पहले हजूरी रागी जत्थों ने गुरबाणी कीर्तन कर अरदास की। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की अध्यक्ष बीबी जागीर कौर ने पांच प्यारों ,निशांची व निगारची सिन्घो को सिरोपे देकर सम्मानित किया । सिंह साहब ज्ञानी जगतार सिंह ने प्रथम प्रकाश गुरुपूरब पर सिख जगत को बधाई देते हुए कहा श्री गुरु अर्जुन देव जी ने श्री गुरु ग्रंथ साहब की संपादना के बाद आज के दिन पहला प्रकाश उत्सव श्री हरिमंदिर साहब मे किया था । जिसकी याद में संगत प्रत्येक वर्ष पंथक परंपराओं अनुसार नगर कीर्तन सजाती हैं । उन्होंने संगत को गुरबाणी के सिद्धांतों पर पहरा देने की अपील करते हुए बच्चों को गुरसिक्खी में निपुण करने की प्रेरणा की । नगर कीर्तन में युवाओं ने गतका प्रदर्शन कर अपने जौहर दिखाए । प्रथम प्रकाश दिवस पर श्री हरिमंदिर साहब,श्री अकाल तख्त साहब व बाबा अटल राय साहब में अलौकिक जलों सजाए गए ।श्री हरिमंदिर साहब में शानदार फूलों की सजावट की गई जो मनमोहक दृश्य तेज पेश कर रही थी। श्री हरिमंदिर साहिब में माथा टेकने वाले श्रद्धालुओं की भारी भीड़ थी। नगर कीर्तन में शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की अध्यक्ष बीबी जागीर कौर ,वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुरजीत सिंह ,महासचिव एडवोकेट भगवंत सिंह सियालका, बलदेव सिंह ,अजमेर सिंह ,बलजिंदर सिंह, मनजीत सिंह, राम सिंह, अवतार सिंह, राजेंद्र सिंह मेहता,  कुलदीप सिंह सहित भारी संख्या में श्रद्धालुगण  उपस्थित थे।