ज्येष्ठ मास में भगवान शिव की पूजा

ज्येष्ठ मास में भगवान शिव की पूजा

ज्येष्ठ मास में  भगवान शिव की पूजा

 

ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को महेश नवमी का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 19 जून, शनिवार को है। इस दिन भगवान शिव की पूजा करने का विधान है। इस अवसर पर हम आपको शिवपुराण में लिखे कुछ ऐसे उपाय बता रहे हैं, जिन्हें करने से साधक की हर मनोकामना पूरी हो सकती है। ये उपाय बहुत ही आसान है।

 

भगवान शिव को कच्चे चावल चढ़ाने से धन लाभ होता है 

 

भगवान शिव को बेला के फूल चढ़ाने से सुंदर पत्नी मिलती है ।

 

शिवलिंग का अभिषेक गाय के घी से करने से कमजोरी दूर होती है ।

 

महादेव की पूजा हरसिंगार के फूलों से करें तो सुख-सम्पत्ति में वृद्धि होती है ।

 

कनेर के फूलों से भगवान शिव की पूजा करने से नए वस्त्र मिलते हैं ।

 

महादेव को जूही के फूल चढ़ाने से  घर में कभी अन्न की कमी नहीं होती ।

 

धतूरे के फूल से पूजा करने पर महादेव सुयोग्य पुत्र प्रदान करते हैं ।भगवान शिव को गेहूँ चढ़ाने से संतान वृद्धि होती है ।

 

शिवजी की पूजा चमेली के फूल से करने पर वाहन सुख मिलता है ।

 

शिवलिंग पर गन्ने का रस चढ़ाने से जीवन में सभी सुख मिलते हैं ।