2022 में बीजेपी की  छुट्टी तय है : राजेंद्र राणा

2022 में बीजेपी की  छुट्टी तय है : राजेंद्र राणा

जितने भी जोशो जुनून से बीजेपी लड़ ले जनरल चुनाव 2022 में बीजेपी की  छुट्टी तय है : राणा
 
वीरभद्र सिंह को श्रद्धांजलि नहीं सेवा-साधना व उनके काम पर पड़े हैं वोट
 
हमीरपुर 23 नवंबर
 
बीजेपी जनरल चुनाव जितने भी जोशो जुनून से लड़ ले लेकिन अब प्रदेश की जनता व बीजेपी के अपने कार्यकर्ता भी समझ चुके हैं कि बीजेपी अब डूबता हुआ जहाज है। जिसमें न जनता की कोई पूछ-पहचान है, न कार्यकर्ताओं की कोई कदर है। यह बात राज्य कांग्रेस उपाध्यक्ष एवं विधायक राजेंद्र राणा ने यहां जारी प्रेस बयान में कही है। उन्होंने कहा कि जहां तक बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व का सवाल है तो बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व भी जानता है कि बीजेपी की आपसी रस्सा-कस्सी व जनता के बीच हर मोर्चे पर नाकाम रही सरकार की एंटी इनकम्बेंसी इतनी ज्यादा बढ़ चुकी है कि जनता मौके की तलाश में है और जनरल चुनावों के बाद बीजेपी कहीं ढूंढे नहीं मिलेगी। राणा ने चुटकी लेते हुए कहा कि बीजेपी में हार की जिम्मेदारी बेशक सरकार के मुखिया ले रहे हों लेकिन यह जगजाहिर है कि माल खाने वाले कोई और हैं। जिस सरकार और सिस्टम का भ्रष्टाचार कोरोना जैसी घातक महामारी के बीच भी बेखौफ चला रहा उससे और क्या उम्मीद की जा सकती है। राणा ने कहा कि  अब बेशक बीजेपी जो मर्जी बहाने गढ़ ले लेकिन यह पक्का है कि जनता वोट श्रद्धांजलियों के नाम पर नहीं सेवा, साधना व काम के नाम पर देती है। पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह द्वारा दशकों तक प्रदेश की सतत सेवा, साधना के नाम पर रानी प्रतिभा सिंह को वोट मिला है। इसमें न बीजेपी को कोई शक है और न ही उनके कार्यकर्ताओं को कोई संदेह है लेकिन अब महज राजनीति के लिए दिया गया बयान कि वीरभद्र के नाम पर श्रद्धांजली वोट पड़े हैं। बीजेपी के सकून के लिए सही है, जबकि हकीकत प्रदेश की जनता जानती है। उन्होंने कहा कि सरकार के मुखिया के गढ़ सिराज में बीजेपी का ग्राफ कितना खिसका है इसका हिसाब अगर उन्हें समझ नहीं आ रहा है तो वह पिछले लोकसभा चुनावों में मिली लीड व अब मिले वोटों के अंतर से समझ लें। सच यह है कि बीजेपी से अब प्रदेश की जनता ही नहीं कार्यकर्ताओं तक का मोह भंग हो चुका है। ऐसी स्थिति जब किसी पार्टी के बीच आती है तो उस पार्टी का अस्तित्व खत्म होना लाजमी है।