सिद्धू की सत्ता पाने की भूख व कांग्रेसी मंत्रियों और विधायकों का दोगला राजनीतिक चरित्र सामने आया: चुग

सीएम को जिम्मेदार ठहरा रहे मंत्री विधायक बताएं कि क्या साढ़े चार साल विकास की बजाय हो रहे थे भ्रष्टाचार व् मौज मस्ती: चुग


चंडीगढ:
 भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री तरुण चुग ने कांग्रेस में  मची सत्ता की लड़ाई पर तंज कसते हुए कहा की सिद्धू का असली चेहरा सामने आ गया है। सिद्धू सीएम बनने के लिए कितने लालयित है कि इन्हें 2022 के विधानसभा चुनावों के समय का इंतजार नहीं हो रहा है। सत्ता पाने के लालच में तो इन्हे कांग्रेस पार्टी की किरकिरी करने में भी कोई गलती नजर नहीं आ रही।
 

 चुग ने कहा कि सत्ता पाने की सिद्धू की लालसा पहली बार सामने नहीं आई है वे पहले भी सत्ता पाने के लिए बेताब दिखाई दिए हैं। लेकिन वह अपने मंसूबे में कामयाब नहीं हो पाए थे, इस बार उनकी चाल कामयाब होती नजर आ रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि सिद्धू किसी के वफादार नहीं है। वे सत्ता के लिए ही सब कुछ करते है। पहले पंजाब में अकाली दल भाजपा गठबंधन की सरकार के दौरान अकाली दल से टकराव लेते रहे हैं और बाद में भाजपा में भी जब वे राज्यसभा सदस्य बनाए गए तो मंत्री पद पाने के लिए उन्होंने भारतीय जनता पार्टी को छोड़ दिया था । उनका यह लालच पुराना है।


चुग ने कहा कि कांग्रेस में मुख्यमंत्री बनने के लिए ही नवजोत सिंह सिद्धू गए थे। 2017 के विधानसभा चुनाव में जब कांग्रेस को जीत मिली और उन्हें सीएम नहीं बनाया गया तो वह नाराज हो गए थे। किसी तरह वे उस समय मंत्री बने और एक  साल मंत्री रहे। वे फिर से बगावती तेवर में आ गए और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह से टकराव बढ़ गया। सरकार में कुछ वर्षों से वे बाहर थे और उनके द्वारा कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी में जाने  की बात चर्चा में रही। मगर वहां पद न दिए जाने की वजह से रुक गए। आखिरकार वे पंजाब कांग्रेस के प्रधान बनने में कामयाब हो गए अब वे  सीएम बनने के लिए आतुर दिखाई दे रहे हैं। इसीलिए जो मंत्री किसी समय सीएम अमरिंदर सिंह के साथ दिखाई दे रहे थे अब वे पाला पलट नवजोत सिंह सिद्धू के पाले में आ गए हैं । सिद्धू की ही चालों के चलते अब यह सभी मंत्री उनके साथ हैं और मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह को बदलने की मांग करने लगे है। कांग्रेस के नेताओं का यही असली चेहरा होता है।


चुग ने कहा कांग्रेसी विधायक अब हाईकमान से सीएम का चेहरा बदलने की मांग कर रहे हैं इन  नेताओं का दोगला चेहरा भी सामने आ गया है आज से कुछ समय पहले यह सभी नेता कैप्टन अमरिंदर सिंह के आसपास दिखाई देते थे तब इन्हें कैप्टन में कोई बुराई नजर नहीं आती थी और अब वह सभी पंजाब की ज्वलंत समस्याओं के लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। क्या सीएम अकेले ही फैसला ले रहे थे लोकतांत्रिक मर्यादा कहा थी ?

राजा साहिब और उनके मंत्री मजे  व भ्रष्टाचार करने में एक से बढ़कर एक की भूमिका में थे।


चुग ने कहा कि बीते साढ़े चार सालों में पंजाब में विकास कार्य रुक गया है उद्योग व्यापारी और किसानी व अन्य वर्ग सब परेशान है । युवाओं को नौकरी नहीं मिली ।किसानों का कर्ज माफ नहीं हुआ । छात्रों को मोबाइल नहीं मिले बेरोजगारों को भत्ता नहीं मिला। पंजाब का विकास ढांचा चरमरा गया आखिरकार जनता का क्या कसूर है। जो विकास से वंचित हो गए।  इन नेताओं ने झूठे वादे कर लोगों को भ्रमित किया और वोट हासिल कर  सरकार बना ली। लोग इस झूटी सरकार  को अब सत्ता से चलता करें ताकि प्रदेश में प्रगतिशील बीजेपी की  सरकार  बनाई जा सके।