शिक्षा लंगर अपनी तरह की एक अनूठी पहल, 6 प्रतिभागियों ने पीसीएस परीक्षा में टॉप रैंक हासिल किया  

गुरु का लंगर' की सच्ची परंपरा में पंजाब पीसीएस परीक्षा के सभी उम्मीदवारों को टीम सीबीएल ने 

कोरोना काल में पूर्णत: नि:शुल्क शिक्षा व मार्गदर्शन प्रदान किया  

 

शिक्षा लंगर के तहत 6 प्रतिभागियों ने पीसीएस परीक्षा में टॉप रैंक हासिल किया  

 
चण्डीगढ़ : शिक्षा लंगर के तहत पूर्णत: नि:शुल्क शिक्षा व मार्गदर्शन ग्रहण करके पीसीएस व अन्य विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं में टॉप रैंक हासिल करने वाले प्रतिभागी आज चण्डीगढ़ प्रेस क्लब में मीडिया से रूबरू हुए व अपने अनुभव ब्यान करते हुए बताया कि शिक्षा लंगर अपनी तरह की एक अनूठी पहल है जहां विशेषज्ञों द्वारा,निशुल्क गुणवत्तायुक्त  शिक्षा एवं शिक्षण साम्रगी प्रदान की जाती है। शिक्षा लंगर की अवधारणा टीम सीबीएल ( चेतन भारत लर्निंग ) ने प्रस्तुत की है। 
 
टीम सीबीएल के प्रमुख चेतन शर्मा ने पत्रकारों को बतायाकि यह पहल कोरोना काल के दौरान पेश आ रहीं अभूतपूर्व स्थितियों के मद्देनज़र 5 जून 2020 को शुरू की गई थी, जिसमें पीसीएस प्रारंभिक परीक्षा की विस्तृत तैयारी कराना शामिल था। 12  मार्च 2021 को पीसीएस प्रारंभिक परीक्षा में सफल परिणाम प्राप्त करने के बाद, सीबीएल टीम ने 15 मार्च को प्रारंभिक परीक्षा परिणाम और मुख्य परीक्षा के बीच कम समय होने के बावजूद पूरे उत्साह और जोश के साथ निःशुल्क  पीसीएस मुख्य परीक्षा बैच शुरू किया।
 
उन्होंने बताया कि पीसीएस मुख्य परीक्षा के परिणाम की सफलता से उत्साहित होकर सीबीएल टीम ने साक्षात्कार के लिए चयनित उम्मीदवारों की तैयारी के लिए भी एक कार्यक्रम शुरू किया । इस कार्यक्रम में ऑन-कैमरा मॉक साक्षात्कार लिए गए।
 
इस कार्यक्रम के द्वारा अंततः उन छात्रों को अत्यधिक लाभ मिला जो कि महामारी के चलते परेशान थे और टीम सीबीएल शीर्ष 10 स्थानों  में से 6  स्थान हासिल करने में भी सफल रही, जिसमें रैंक 1- उपिंदरजीत कौर बरार, रैंक 3- सचिन पाठक, रैंक 4- महक मित्तल, रैंक 6- गुरलीन, रैंक -7 सुजावल जग्गा, और रैंक 10- करमजोत सिंह शामिल हैं। इसके अलावा ईएसएम श्रेणी में, एपीएस सोमल और इरवान कौर ने क्रमशः रैंक 2 और रैंक 3 हासिल की। खेल वर्ग में चंदनदीप सिंह ने सफलता प्राप्त की। तो वहीं पिछड़ा वर्ग  में मोनिका सैनी और पीरपाल सिंह ने सफलता प्राप्त की। उनके मुताबिक़ अब तक 40,000 से अधिक इच्छुक उम्मीदवार इस निशुल्क पाठ्यक्रम से लाभान्वित हो चुके हैं।
 
उन्होंने कहा कि पंजाब पीसीएस परीक्षा की अंतिम चयन सूची में हमारे उम्मीदवारों की उल्लेखनीय सफलता इस कार्यक्रम के तहत प्रदान की जाने वाली शिक्षा की गुणवत्ता का प्रमाण है।
 
चेतन शर्मा ने जानकारी दी कि कोविड -19 महामारी और इस दौरान की गई तालाबंदी आम जनता के लिए बेहद कठोर थी। राष्ट्र के सामने आने वाली आर्थिक कठिनाइयों ने एक ऐसी स्थिति पैदा कर दी जहां उच्च वर्ग, मध्यम वर्ग में और मध्यम वर्ग निम्न मध्यम वर्ग में परिवर्तित हो  गया। लेकिन संकट की इस घड़ी में, विभिन्न संगठन और जनहित की भावना से प्रेरित व्यक्ति मूल्यवान और बहुत आवश्यक सहायता प्रदान करने के लिए आगे आए जिन्होंने सहायता समूहों के माध्यम से मुफ्त भोजन और राशन प्रदान किया। तालाबंदी के कारण शिक्षा क्षेत्र सबसे अधिक प्रभावित हुआ। 
 
इसका प्रभाव दोहरा  था जिसमें पहला शैक्षणिक संस्थान बंद होने के साथ, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की उपलब्धता बहुत कम हो गई और दूसरा प्रभाव यह था कि  आर्थिक संकट  के कारण, आम उम्मीदवारों के लिए शैक्षिक पाठ्यक्रमों की वहनीयता भी कम हो गई। इस दौरान  टीम सीबीएल  ने पंजाब पीसीएस उम्मीदवारों के लिए एक अनूठी पहल - "शिक्षा लंगर" प्रारंभ की ।
 
उन्होंने बताया कि 'गुरु का लंगर' की सच्ची परंपरा में, पंजाब पीसीएस परीक्षा के सभी उम्मीदवारों को टीम सीबीएल द्वारा पूर्णत: निशुल्क शिक्षा दी गई। अवधारणाओं की प्रस्तुति, मूल सिद्धांतों की कवरेज और सावधानीपूर्वक संगठन के साथ विषयों की प्रस्तुति  उम्मीदवारों के लिए आशा की किरण बनी |
 
चेतन शर्मा ने बताया कि चेतन भारत लर्निंग एक लर्निंग प्लेटफॉर्म है, जिसका उद्देश्य शिक्षा के परिदृश्य को सतत तीव्रता के साथ जन-जन तक पहुंचाना है। इसका मुख्य उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा को उपलब्ध, वहनीय और सुलभ बनाना है।
 
चेतन भारत लर्निंग प्लेटफॉर्म, अपनी स्थापना के समय से ही, असाधारण रूप से न्यूनतम शुल्क में  अत्याधुनिक सुविधायुक्त  पाठ्यक्रम शुरू करके शिक्षा परिदृश्य में क्रांति लेकर आया। सीबीएल का मिशन देश में शिक्षा परिदृश्य के हर पहलू तक पहुचं बनाना है।  धीरे-धीरे,यह संस्थान  विभिन्न शैक्षिक क्षेत्रों में अपने पैर फैला रहा है