अमृतसर,(कुमार सोनी ) पंजाब के  पूर्व मंत्री स. बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा शिरोमणी अकाली दल कांग्र

अमृतसर,(कुमार सोनी ) पंजाब के  पूर्व मंत्री स. बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा शिरोमणी अकाली दल कांग्र

अमृतसर,(कुमार सोनी ) पंजाब के  पूर्व मंत्री स. बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा शिरोमणी अकाली दल कांग्रेसी नेता राहुल गांधी, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़, एसआईटी सदस्यों, विजिलेंस डायरेक्टर बीके उप्पल, एडवाइजर बीआईएस चहल तथा अन्य अधिकारियों के खिलाफ कोटकपुरा  फायरिंग मामलेे की जांच का राजनीतिकरण करने के लिए तथा पूर्व मुख्यमंत्री स परकाश सिंह बादल तथा स सुखबीर सिंह बादल को फंसाने के लिए जालसाजी और आपराधिक साजिश में लिप्त होने के लिए पुलिस में शिकायत दर्ज कराएंगा।
 
यहां एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए स मजीठिया ने कहा कि पंजाब प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने इस बात का खुलासा कर कि कैप्टन अमरिंदर सिंह द्वारा बादल  परिवार को बेअदबी के मामले में फंसाया जा रहा है, से बिल्ली थैले से बाहर आ गई है। ‘ इससे एक  आपराधिक षडयंत्र  का पता चलता है’। उन्होने कहा कि चूंकि सतर्कता विभाग कोटकपुरा फायरिंग की जांच के लिए गठित एसआईटी टीम के साथ अपने अधिकारी तैनात किए हैं। इससे  यह स्पष्ट हो गया है कि उन्होने कांग्रेस सरकार के साथ मिलकर सर्तकता विभाग के डायरेक्ट बीके उप्पल और सलाहकार बीआईएस चहल इस साजिश का हिस्सा थे, और उन पर धारा 120 (बी) आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया जाना चाहिए।
 
 
 
स मजीठिया ने कहा कि अकाली दल जल्द ही चंडीगढ़ पुलिस के पास एल के यादव और डीए जतिंदरबीर सिंह और देवदत्त की अगुवाई में एसआईटी टीम के खिलाफ शिकायत दर्ज कराएगा।  हम मांग करेंगे कि उच्च न्यायालय के आदेशों की अवहेलना करने के लिए अधिकारियों पर धारा 166 (ए) आईपीसी के तहत मामला दर्ज किया जाए । उन्होंने कहा न्यायालय ने निर्देश दिया थ कि केवल तीन सदस्यीय एसआईटी ही जांच करेगी। उन्होने कहा कि तीन अन्य सदस्य सिंगला और दो डीएज् का प्रतिरूप एसआईटी प्रमुख एलके यादव सीधे तौर पर जिम्मेदार हैं, जिसमें कहा गया है कि रिटायर्ड निदेशक प्राॅसीक्यूशन के साथ साथ एक डीए तथा दूसरा डीएसपी था, जबकि तीसरा अधिकारी कैमरामैन था।
 
 
 
स मजीठिया ने कहा कि बादल परिवार के खिलाफ इस तरह  से ध्यान भटकाने वाले झूठे  मामले बनाकर विफलताओं से ध्यान भटकाने के लिए किए जा रहे हैं, ऐसा इसीलिए किया जा रहा है क्योंकि कांग्रेस सरकार अब गिरने वाली है। ‘यही कारण है कि विजय सिंगला जैसे लोग , जिन्होने पहले लुधियाना सिटी संेटर घोटाला मामले को रदद किया था जिसमें  कैप्टन अमरिंदर सिंह को आरोपी थे, को स परकाश सिंह बादल तथा स सुखबीर सिंह बादल को फंसाने के लिए उतारा गया है।
 
 
 
अकाली नेता ने बताया कि किस तरह से एसआईटी के आदेशों का सीधा उल्लंघन कर अवैध काम किया गया है। उन्होने कहा कि धारा 156 सीआरपीसी में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि अकेले पुलस के पास किसी भी मामले की जांच के अधिकार हैं तथा प्राॅसीक्यूशन की भूमिका तब शुरू होती जब अदालत में चालान पेश किया जाता। ‘चंडीगढ़ में स बादल के आवास पर प्राॅसीक्यूशन अधिकारियों की मौजूदगी में जब एसआईटी कोटकपुरा गोलीकांड के सिलसिले में स बादल से प्रशन पूछे गए, इससे अदालत के आदेशों का उल्लंघन किया गया  ’।
 
 
 
स मजीठिया ने यह भी खुलासा किया कि भले ही एसआईटी कोटकपुरा गोलीकांड की जांच कर रही थी, लेकिन उसने बेअदबी मामले को जानबूझकर लिया जा रहा है। उन्होने कहा कि इससे साबित होता है कि यह हाईकोर्ट के आदेशों के विरूद्ध है , कुंवर विजय प्रताप सिंह जोकि धर्म, राजनीति और पुलिस प्रशासन का खतरनाक मिश्रण बताते हुए जांच का आरोप लगाया था। उन्होने कहा कि कोटकपुरा मामला फायरिंग से संबंधत था , जिसके परिणामस्वरूप प्रदर्शनकारियों में से एक को चोट आई। ‘ एसडीएम ने पानी की बोछारों का इस्तेमाल तथा लाठीचार्ज का आदेश दिया था। इसकी जांच करने के बजाय एसआईटी शिरोमणी अकाली दल को निशाना बनाने के लिए जानबूझकर जांच की तरफ घुमा रही है।
 
 
 
स विरसा सिंह वल्टोहा ने मांग की कि पंजाब प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ , मंत्री सुखजिंदर रंधावा और तृप्त बाजवा के साथ साथ आम आदमी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व का लाई डिटेक्टर टेस्ट किया जाना चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि उन्होने पूर्व आईजी कुंवर विजय प्रताप से कितनी बार बात की , जिन्होने कोटकपुरा गोलीकांड की राजनीति से प्रेरित होकर जांच की । सरदार वल्टोहा ने यह भी मांग की  सीसीटीवी फुटेज सहित मुख्यमंत्री के आवास के रिकार्ड की जांच की जानी चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि आईजी ने  अकाली दल के खिलाफ साजिश करने के लिए कांग्रेसी मंत्रियों के साथ कितनी बार इस जगह का दौरा किया ।  इस अवसर पर स हरमीत सिंह संधू भी उपस्थित थे।