सिरमौर में बेटियों को बढ़ावा देने के लिए 1 से 24 जनवरी तक चलाया जाएगा विशेष अभियान - आर के गौतम

Breaking News

सिरमौर में बेटियों को बढ़ावा देने के लिए 1 से 24 जनवरी तक चलाया जाएगा विशेष अभियान - आर के गौतम

राशन आवंटन प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए विभाग के अधिकारी करेंगे रैंडम कॉलिंग 

 

नाहन 28 दिसम्बर - जिला सिरमौर में बेटियों को बढ़ावा देने के लिए 1 से 24 जनवरी 2022 यानी राष्ट्रीय बालिका दिवस तक विशेष अभियान चलाया जाएगा जिसमें विभिन्न क्षेत्रों में जिला, प्रदेश और देश का नाम रोशन करने वाली बेटियों को सम्मानित किया जाएगा ताकि सभी उनसे प्रेरणा ले सकें और बेटियों को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें। इस दौरान सभी खण्ड स्तर पर कार्यक्रम आयोजित कर बेटियों को सम्मानित किया जाएगा और नवविवाहित जोड़ों को बेटियों के जन्म के महत्व बारे तथा बेटा और बेटी में फ़र्क़ न करने बारे जागरूक किया जाएगा।

यह जानकारी उपायुक्त सिरमौर राम कुमार गौतम ने आज यहाँ आयोजित महिला एवं बाल विकास विभाग की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।

उन्होंने आंगनवाड़ी केंद्रों में बच्चों को वितरित किए जा रहे राशन की प्रक्रिया में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए बच्चों के अभिभावकों को फोन कर उनकी प्रतिक्रिया दर्ज करने के निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि राशन आवंटन प्रक्रिया में पारदर्शिता बनाए रखने के लिए कुल लाभार्थियों में से दस प्रतिशत लाभार्थियों को सूपरवाइज़र, दस प्रतिशत लाभार्थियों को सीडीपीओ तथा दस प्रतिशत लाभार्थियों को डीपीओ रैंडम कॉलिंग करेंगे और उनकी प्रतिक्रिया को दर्ज करेंगे। उन्होंने विभाग को दूर दराज की पंचायतों का सर्वे करवाकर वहाँ मिनी आंगनवाड़ी केंद्र बनवाने के निर्देश दिए ताकि बच्चों को घर से दूर न जाना पड़े।

उन्होंने कहा कि जिला में 1 से 7 जनवरी तक खण्ड स्तर पर पोषण अभियान के तहत बैठकें आयोजित की जाएँगी जिनमें आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को पोषण से सम्बंधित पूर्ण जानकारी दी जाएगी। इसी प्रकार 8 जनवरी से 24 जनवरी तक पंचायत स्तर, खण्ड स्तर तथा उपमंडल स्तर पर आयोजित कार्यक्रमों में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता सभी पंचायत प्रतिनिधियों तथा वार्ड सदस्यों की मौजूदगी में पोषण का महत्व लोगों को समझाएँगी ताकि जिला को कुपोषण से  पूरी तरह मुक्त किया जा सके। इस दौरान आंगनवाड़ी कार्यकर्ता महिलाओं को गर्भधारण से लेकर पहले 1000 दिनों के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों बारे जानकारी देंगी।

उपायुक्त ने कहा कि मध्यम कुपोषित और अति कुपोषित बच्चों की जांच के लिए आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और आशा कार्यकर्ता एक माह में दो बार उनके घर जाकर उन्हें सही पोषण की जानकारी देंगी और उनके स्वास्थ्य की निगरानी करेंगी। बैठक में बताया गया कि कुपोषण से बचाने के लिए मध्यम कुपोषित बच्चों को दोगुनी डाइट प्रदान की जा रही है।

उपायुक्त ने आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के रिक्त पड़े 16 पदों को और आंगनवाड़ी सहायिका के 24 पदों को 31 जनवरी 2022 तक भरने के निर्देश दिए। 

बैठक के दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग राजेंद्र सिंह नेगी ने उपायुक्त सहित सभी सदस्यों का स्वागत किया और क्रमवार सभी मदों को पढ़ा।

बैठक में सहायक आयुक्त डॉ प्रियंका चंद्रा सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी भी उपस्थित रहे।