कांग्रेस का आतंकवादियों पर सख्त कार्यवाही  पर नर्म रुख क्यों? : चुघ

कांग्रेस का आतंकवादियों पर सख्त कार्यवाही  पर नर्म रुख क्यों? : चुघ

संसद में आतंकवाद पर सख्त कार्यवाही करने वाले कानून का विरोध, गांधी परिवार व कांग्रेस की आतंकवाद के प्रति सहानुभूति का प्रतीक बना  : चुघ


चंडीगढ़: भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तरुण चुग ने  प्रेस से बातचीत करते हुए कहा की देश में आतंकवाद को समर्थन देने का कांग्रेस का गुप्त एजेंडा है जिस कारण कभी आंतकवादियो को बचाने हेतु रात रात को सर्वोत्तम न्यायालय खुलवाना, भारत तेरे टुकड़े होंगे उस मानसिकता के हीरो कनैया कुमार का समर्थन करना व गर्व से उसके  साथ सेल्फी लेने, अंतवादियो से सुरक्षा बलों के इनकाउंटर जैसे बाटला (दिल्ली) इनकाउंटर को झूठ साबित करने का प्रयास करना आदि व उसी तरह अब संसद में आंतकवाद पर सख्त कार्यवाही करने वाले कानून का विरोध, गांधी परिवार व कांग्रेस की आंतकवाद के प्रति सहानुभूति का प्रतीक बना है ।


 चुग ने कहा की जिस तरह से कांग्रेस सांसदों ने गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम विधेयक, 2019 पर अपना विरोध व्यक्त किया था और लोकसभा में वाक-आउट किया, इससे यह स्पष्ट रूप से प्रदर्शित होता है की कांग्रेस आतंकवाद पर मोदी सरकार की प्रतिबंद्ता के विरुद्ध जाकर देश को आतंकवाद की आग में झोंकना चाहती है।  


 चुग ने कहा की लोकसभा में प्रस्तुत विधेयक, गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम, 1967 में संशोधन करता है, जो भारत में आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले व्यक्तियों और समूहों से निपटने के लिए विशेष शक्तियां प्रदान करता है।  


उन्होंने कहा की देश यह समझने में विफल है की  कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी केंद्र द्वारा की गई किसी भी आतंकवाद विरोधी कार्रवाई का विरोध क्यों कर रही थीं।


 चुग ने पूछा, "क्या वह आतंकवादियों के साथ हाथ मिला रही है या देश में विध्वंसक गतिविधियों को प्रोत्साहित करने के लिए उन्हें समर्थन देने की कोशिश कर रही है?"


 चुग ने कांग्रेस को अपनी संकीर्ण और अदूरदर्शी राजनीति में लिप्त होने के बजाय आतंकवादी गतिविधियों को पर राष्ट्रीय दृष्टिकोण अपनाने का सुझाव दिया और कहा की अब समय आ गया है की कांग्रेस गंभीर आत्मनिरीक्षण करे।  उन्होंने कहा, "नहीं तो देश में बची खुची कांग्रेस का सफाया जल्द से जल्द हो जाएगा"।