कोविड टेस्टिंग के लिए मुख्य मार्ग पर स्थापित होंगे काउंटर: डीसी निपुण जिंदल

ग्रामीण स्तर पर रेंडम सेंपलिंग के भी स्वास्थ्य विभाग को दिए निर्देश


 
धर्मशाला, 29 जून। धर्मशाला में कोविड टेस्टिंग के लिए मुख्य मार्ग किनारे काउंटर स्थापित किए जाएंगे। इस के लिए स्वास्थ्य विभाग को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि कोविड संक्रमण से बचाव के लिए टीकाकरण के साथ साथ नियमित टेस्टिंग भी जरूरी है ताकि संक्रमण समाज में नहीं फैल सके।
    उन्होंने कहा कि अभी भी कोविड से बचाव की जरूरत है। कोविड की संभावित तीसरी लहर से बचने के लिए प्रशासनिक स्तर पर तैयारियां की जा रही हैं जबकि लोगों को भी कोविड प्रोटाकॉल का पूरा ध्यान रखना चाहिए उन्होंने कहा कि अब ग्रामीण स्तर पर भी कोविड को लेकर रेंडम सेंपलिंग करने के निर्देश दिए गए हैं इसके साथ ही कोविड संक्रमितों की संपर्क सूची के आधार पर भी सुचारू टेस्टिंग के लिए स्वास्थ्य विभाग को कहा गया है।
 
उन्होंने कहा कि मुख्य मार्ग से वाहनों में गुजरने वाले लोगों को कोविड टेस्टिंग की त्वरित सुविधा दी जाएगी इसमें वाहनों की आवाजाही किसी भी स्तर पर प्रभावित नहीं हो उस के लिए भी ट्रेफिक पुलिस द्वारा भी पुख्ता प्रबंध किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि धर्मशाला जिला का मुख्यालय होने के कारण यहां पर रोजाना कर्मचारी तथा दुकानदार सैकड़ों की संख्या में आते हैं तथा उनको कोविड टेस्टिंग काउंटर पर ही सेंपल देने की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने कहा कि अब ग्रामीण स्तर पर भी कोविड को लेकर रेंडम सेंपलिंग की जाएगी ताकि प्रारंभिक स्तर पर ही संक्रमण को रोका जा सके।
 
उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि अब लॉकडाउन तथा कर्फ्यू इत्यादि की बंदिशों से लोगों को राहत दे दी गई है इसलिए सार्वजनिक स्थलों पर सामाजिक दूरी की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए भी नागरिकों को अपनी रचनात्मक भूमिका निभानी चाहिए इसके साथ ही मास्क का उपयोग भी सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि होटल के कर्मियों तथा पर्यटन स्थलों में कारोबार करने वाले दुकानदारों, टैक्सी चालकों की नियमित टेस्टिंग का भी प्लान तैयार किया गया है।
 
उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने कहा कि ग्रामीण स्तर पर गठित कोविड प्रबंधन टास्क फोर्स को भी सक्रिय करने के लिए उपमंडलाधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं तथा इन कमेटियों द्वारा नियमित रिपोर्ट भी विकास खंड अधिकारियों के माध्यम से भेजना सुनिश्चित करने के लिए कहा गया है।
 
ग्रामीण टास्क कोविड प्रबंधन टास्क फोर्स को संबंधित पंचायतों के सभी लोगों के टीकाकरण के लिए भी स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय स्थापित करने तथा सर्दी जुकाम, बुखार, खांसी इत्यादि के लक्षण होने पर कोविड टेस्टिंग के लिए भी उचित कदम उठाने के लिए कहा गया है।