समस्त बैंक निर्धारित लक्ष्य को समय अवधि में करें पूरा: एडीसी काग़डाॅ

समस्त बैंक निर्धारित लक्ष्य को समय अवधि में करें पूरा: एडीसी काग़डाॅ

बैकर्स की जिला स्तरीय समीक्षा समिति की बैठक आयोजित

धर्मशाला, 29 सितम्बर: जिला स्तरीय समीक्षा समिति एवं जिला सलाहकार समिति की समीक्षा बैठक आज एडीसी चेम्बर में आयोजित की गई जिसकी अध्यक्षता अतिरिक्त उपायुक्त राहुल कुमार ने की। बैठक में 30 जून, 2021 तक की तिमाही के आय-व्यय प्रगति व निर्धारित लक्ष्य पर विस्तार से चर्चा की गई।
  राहुल कुमार ने सभी बैंकों की उपलब्धियों पर चर्चा की तथा साथ ही सभी बैंकों को निर्धारित लक्ष्य को पूरा करने के दिशा-निर्देश दिए। उन्होंने ज़िला के सभी विभागों से मिल-जुलकर कार्य करने के लिए कहा, जिससे जिले में विभिन्न विकास कार्यों में तेजी लाई जा सके। उन्होंने ऋण अनुपात की कमी पर चिंता व्यक्त की तथा सभी बैंकों को सीडी रेशो बढ़ाने के दिशा-निर्देश दिये।
  एडीसी ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत आने वाले किसानों को केसीसी, पीएमएसबीवाई, पीएमजेजेबीवाई, पीएमएमवाई, एसयूआईएस एपीवाई से जोड़ने हेतु चलाए गए अभियान की समीक्षा की तथा सभी बैंक अधिकारियों को निर्देश दिए कि इस अभियान को सफल बनाने हेतू अधिक से अधिक किसानों को इन योजनाओं से जोड़ा जाए ताकि किसान अधिक से अधिक लाभ उठा सकें तथा अपनी आय में वृद्धि कर सकें। एडीसी ने बैंकों को अधिक से अधिक वित्तीय जागरूकता कैम्प आयोजित करने तथा कृषि ऋण की स्थिति को सुधारने के निर्देश दिए।
  उन्होंने कहा कि क्षेत्र के युवाओं को रोजगार प्रदान करने एवं आत्मनिर्भर बनाने के उद्देश्य से पीएमईजीपी योजना प्रदेश में संचालित है जिसके तहत बेरोजगारों को अपना रोजगार स्थापित करने के लिए बैंकों द्वारा युवाओं को कार्य प्रशिक्षण उपरांत अधिकतम 25 लाख तक ऋण सुविधा प्रदान की जाती है। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत 30 जून तक 1.11 करोड़ व्यय कर 31 मामले स्वीकृत किये गये हैं। एडीसी ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना हिमाचल सरकार की एक महत्वकांक्षी योजना है। इस योजना के तहत चालू वित्त वर्ष के तहत 30 जून की तिमाही तक 10.64 करोड़ व्यय कर 53 मामलों की स्वीकृति प्रदान की गई है।
  पंजाब नैशनल बैंक धर्मशाला के मण्डल प्रमुख अमरेन्द्र कुमार ने बताया कि कांगड़ा जिला के बैंकों ने वार्षिक ऋण योजना 2021-2022 की जून तिमाही तक 1191.47 करोड़ के एवज़ में 793.48  करोड़ वितरित किए। उन्होंने कहा कि जिला में विभिन्न बैंकों के पास लोगों के 31443 करोड़ जमा है तथा जिला के सभी बैंक अब तक लोगों को 7489 करोड़ के ऋण जून, 2021 तक दे चुके हैं।
   इस अवसर पर एजीएम भारतीय रिजर्व बैंक अमरेन्द्र गुप्ता बैठक में ऑनलाइन जुड़े। उन्होंनेे कृषि क्षेत्र तथा प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र की स्थिति पर चिंता व्यक्त की और इन क्षेत्रों में अधिक से अधिक ऋण देने तथा तथा किसानों की आय में वृद्धि किए जाने पर ज़ोर दिया।  
  जिला अग्रणी, मुख्य प्रबन्धक कुलदीप कुमार कौशल ने मुख्यातिथि का स्वागत करते हुए बैंकर्स की त्रैमासिक रिपोर्ट के बारे में जानकारी दी। उन्होंने सभी बैंकों को जिला कृषि क्षेत्र के उत्थान के लिए किसानों को अधिक से अधिक आर्थिक मदद देने के लिए कहा। डीडीएम नाबार्ड अरूण खन्ना ने एफपीओ स्कीम में ‘एक जिला एक उत्पाद’ तथा कृषि अवसंरचना कोश, किसान उत्पादन संगठनों के गठन एवं सम्बर्द्धन, प्राथमिक कृषि ऋण समितियों के बारे में विस्तारपूर्वक बताया।
बैठक में बैंकों के समन्वयक तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी उपस्थित रहे।