केजरीवाल के पंजाबियों को 300 यूनिट के राहत वाले कदम से क्यों तड़पे कांग्रेसी व अकाली ः प्रो. बलजिं

केजरीवाल के पंजाबियों को 300 यूनिट के राहत वाले कदम से क्यों तड़पे कांग्रेसी व अकाली ः प्रो. बलजिं

आप के खिलाफ एकजुट होके कर रहे हैं विरोध, जनता अंजान नहीं

पटियाला- 30 जून 

आम आदमी पार्टी की नेता प्रो. बलजिंदर कौर आज पटियाला में ईटीटी अध्यापकों के धरने को अपना समर्थन देने पहुंची। वहां पर उन्होंने कांग्रेस और अकाली दल की सांझ का पर्दाफाश किया। उन्होंने कहा कि अब जनता को इस बात का अहसास हो गया कि आप के कन्वीनर व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बीते दिन पंजाबियों को 300 यूनिट बिजली मुफ्त देने की घोषणा की, ताकि आम जनता को लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि पॉवर कारपोरेशन अनुसार बड़ी संख्या में ऐसे उपभोक्ता हैं, जिनका का बिजली बिल 300 यूनिट के पार ही नहीं जाता है। हैरानी उस समय हुई जब अकाली दल व कांग्रेस दोनों ही इस घोषणा के बाद तड़प गए। इससे आम आदमी सहज ही अंदाजा लगा सकता है कि यह दोनों दल किस तरह से मिल कर राजनैतिक पारी खेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब तक यह दल मिल कर बारी-बारी से सत्ता संभालने का खेल खेल रही थे। पर अब आम आदमी पार्टी ने इन की राजनैतिक चालों को नंगा कर दिया है। इस बात यह तड़प गए हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने स्पष्ट कर दिया है कि सरकारी खजाने की हो रही लूट पर काबू पा कर ही जनता को सुविधाएं दी जाएंगी। वह इस संबंध में सारे आंकड़े लेकर आए थे। 

प्रो. कौर ने कहा कि जिस तरह से दिल्ली में आप की सरकार ने बिजली कंपनियों के समझौतों पर दोबारा विचार कर जनता को राहत दी है। उस फैसले से दिल्ली की जनता खुश है। यदि ऐसी सुविधाएं पंजाब की जनता को भी मिल जाए, तो इससे घर के बजट को लाभ मिलेगा। केंद्र सरकार की ओर से थौपे गए मंहगाई के दौर में कुछ न कुछ राहत अवश्य मिलेगी। उन्होंने मांग की कि पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह जनता को अकाली दल की सरकार के समय बिजली कंपनियों के साथ किए समझौतों को सार्वजनिक करें। ताकि जनता को इन समझौतों की जानकारी मिल सके, और सच सामने आए। 

उन्होंने कैप्टन अमरिंदर को कहा कि उनके शहर में अध्यापक नौकरी हासिल करने के लिए दर-दर भटक रहें हैं। पुलिस उन पर लाठी चार्ज कर रही है। जबकि सरकार ने घर-घर नौकरी देने का वायदा किया था। कैप्टन के सारे वायदे केवल जुमले ही थे। जिसे जनता अब समझ चुकी है।