डेढ़ वर्ष से बिना अवकाश के कोविड स्वास्थ्य सेवा में जुटी रंभा देवी    

 

    25 हजार लोगों को वैक्सीन की डोज दे चुकी हैं 53 वर्षीय स्वास्थ्य कार्यकर्ता

    धर्मशाला, 30 मई। कोविड महामारी से निपटने के लिए सरकार, प्रशासन के साथ साथ कोरोना वारियर्स भी दिन रात जुटे हुए हैं। स्वास्थ्य खण्ड नगरोटा बगवां में महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता के पद पर तैनात 53 वर्षीय रंभा देवी कोरोना काल में पिछले डेढ़ वर्ष से बिना अवकाश लिए लोगों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवा रही हैं वैक्सीन कार्यक्रम आरम्भ होने से लेकर वह अब तक लगभग 25 हजार लोगों को वैक्सीन लगा चुकीं हैं ! उम्र के इस पड़ाव में भी वह अपने कर्तव्य को निभाने में कोई कसर नहीं छोड़ती हैं उनका कहना है कि वह उनके पास पहुंचने वाले हर इंसान को देवता समान समझ कर सेवा करती हैं !

           रंभा देवी का कहना है कि देश एक भयंकर बीमारी की चपेट में है और कोरोना की दूसरी लहर ने देश मे व्यापक कहर मचाया है लोगों के स्वास्थ्य की देख रेख करना और विपति की इस घड़ी में उनके साथ खड़ा रहना ही सच्ची मानवता की सेवा है वह लगातार पहले जरूरतमंद लोगों के घर घर पहुंच कर आवश्यक सहायता उपलब्ध करवाती रही हैं और जब से वैक्सीनशन कार्यक्रम आरम्भ हुआ है तब से लगातार इस कार्य से जुड़ी हुई है।

    एसडीएम शशि पाल ने कहा कि कोविड-19 के संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन सार्थक कदम उठा रहा है तथा इस दिशा में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी दिन रात कोविड रोगियों की सेवा में तत्परता के साथ कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि महिला स्वास्थ्य कार्यकर्ता तथा आशा वर्कस घर-घर जाकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं।

  उन्होंने कहा कि कोविड से निपटने के लिए आम जनमानस का सहयोग भी जरूरी है तथा इस के लिए सामाजिक दूरी, मास्क का सही उपयोग और हाथों को बार-बार धोना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा कोविड टीकाकरण अभियान भी आरंभ किया गया है तथा प्रत्येक नागरिक को वैक्सीन देने के लिए सार्थक प्रयास किए गए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए ग्रामीण स्तर पर कोविड टास्क फोर्स भी गठित की गई तथा इस टास्क फोर्स के माध्यम से भी ग्रामीण स्तर पर कोविड के संक्रमण को लेकर सुचारू मानिटरिंग सुनिश्चित की जा रही है ताकि कोरोना वायरस के साथ जंग को जीता जा सके। उन्होंने कहा कि उपमंडल स्तर पर कोविड कंट्रोल रूम भी स्थापित किया गया है जिसके माध्यम से होम आईसोलेशन में रह रहे रोगियों के साथ संपर्क साधा जा रहा है तथा होम आईसोलेशन किटस भी नियमित तौर पर वितरित की जा रही हैं।