धूम्रपान तथा तंबाकू से बने उत्पादों से फेफड़ों को होता है नुक्सान  

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर नशे से दूर रहने का किया आग्रह

धर्मशाला, 31 मई। उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि धूम्रपान, तंबाकू तथा इसके बने उत्पादों का सेवन स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं इससे फेफड्रों तथा ह्दय संबंधी गंभीर रोग होते हैं। कोविड की इस महामारी के दौर में धूम्रपान और तंबाकू का सेवन और भी जानलेवा है, कोरोना का संक्रमण भी फेफडों के साथ ही जुड़ा है इसलिए धूम्रपान तथा तंबाकू व इससे बने उत्पादों से हमेशा दूर रहना चाहिए।

    विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर उपायुक्त राकेश प्रजापति ने कहा कि हिमाचल वर्ष 2013 में धूम्रपान मुक्त राज्य घोषित किया गया है तथा सार्वजनिक स्थानों पर धूम्रपान एक कानूनी अपराध भी माना गया है।

उन्होंने कहा कि युवा पीढ़ी को नशों से दूर रहना चाहिए इससे मानसिक तथा शारीरिक नुक्सान होता है। उन्होंने कहा कि 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाया जाता है इसका उददेश्य जनमानस में तंबाकू तथा धूम्रपान के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता लाना है। अधिकांश यह देखा गया है कि युवा पीढ़ी इसके सेवन से अत्यधिक प्रभावित हुआ है जिसके घातक दुष्परिणाम सामने आए हैं।

उन्होंने कहा कि अभिभावक अपने बच्चों की आदतों पर विशेष ध्यान रखें और उनको तंबाकू, धूम्रपान के दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी दें तथा नशे से दूर रहने के लिए भी प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि तंबाकू की लत से छुटकारा पाने के लिए टोल फ्री नंबर 104 पर संपर्क करें तथा मेडिकल कालेज में स्थापित नशा निवारण केंद्र में चिकित्सीय परामर्श भी लें ताकि युवा पीढ़ी के भविष्य को सुरक्षित किया जा सके।